यूपी के ताजा सर्वे में भाजपा सबसे आगे, CM योगी के कामकाज पर लोगों ने ऐसे लगाई मुहर

0
6

लखनऊ : यूपी चुनाव से पहले इंडिया टुडे और सी-वोटर ने मिलकर यूपी के मूड का सर्वे किया है। इसमें को बढ़त मिलती दिख रही है। आजतक चैनल प्रसारित किए गए सर्वे में यूपी में चल रही भाजपा की योगी आदित्यनाथ की सरकार के कामकाज से सर्वे में भाग लेने वाले 49 फीसदी लोगों ने बहुत हद तक संतुष्टि जताई है। वहीं, 17 फीसदी लोगों ने कहा है कि वे योगी सरकार के कामकाज से संतुष्ट हैं। इस प्रकार योगी सरकार के कामकाज को 66 फीसदी लोगों ने सराहा है। वहीं, 34 फीसदी लोगों ने योगी सरकार के कामकाज पर असंतुष्टि जताई है।

यूपी विधानसभा चुनाव से पहले यह आंकड़ा योगी सरकार के लिए काफी संतोषजनक होने वाला है। वहीं, यूपी में चुनाव के प्रमुख मुद्दों पर भी सर्वे में सवाल किया गया। इसमें 35 फीसदी लोगों ने इस बार के चुनाव में बेरोजगारी को मुद्दा माना है। वहीं, 23 फीसदी ने महंगाई, 10 फीसदी ने कोरोना महामारी, 7 फीसदी ने भ्रष्टाचार और 2 फीसदी लोगों ने आर्थिक हालात को मुद्दा माना है। ऐसे में बेरोगजारी के मसले पर सरकार को घेरा जा सकता है। लेकिन, अभी तक विपक्ष की ओर से इस मुद्दे को उस स्तर पर गंभीरता से नहीं उठाया जा सका है।

मोदी सरकार से 69 फीसदी लोग संतुष्ट
मूड ऑफ नेशन सर्वे में यूपी की जनता से जब केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के कामकाज पर सवाल किया गया तो 69 फीसदी लोगों ने कहा कि वे बहुत संतुष्ट हैं। वहीं, 8 फीसदी लोगों ने एनडीए सरकार के कामकाज से संतुष्ट बताया। ऐसे में माना जा सकता है कि 77 फीसदी लोगों ने नरेंद्र मोदी सरकार के कामकाज को संतोषजनक माना है। वहीं, 22 फीसदी लोगों ने मोदी सरकार के कामकाज को असंतोषजनक करार दिया है।

लोकसभा चुनाव हुए तो भाजपा फिर बनेगी नंबर वन
लोकसभा चुनाव अभी होने की स्थिति में एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी यूपी में नंबर वन पार्टी बनकर उभरेगी। मूड ऑफ नेशन सर्वे में 46 फीसदी लोगों ने एनडीए को वोट करने की बात कही। वहीं, 31 फीसदी लोग समाजवादी पार्टी के गठबंधन के पक्ष में वोट करने की बात कर रहे हैं। वहीं, बहुजन समाज पार्टी को 11 फीसदी और कांग्रेस को 10 फीसदी लोग वोट करने की बात कर रहे हैं।

जांच एजेंसी का सभी करते गलत इस्तेमाल
मूड ऑफ नेशन सर्वे में लोगों से सवाल किया गया कि क्या भाजपा सरकार अन्य सरकारों की अपेक्षा जांच एजेंसी का गलत इस्तेमाल करती है? इस पर 29 फीसदी लोगों ने हामी भरी है। वहीं, 45 फीसदी लोगों ने माना है कि सभी दलों की सरकार जांच एजेंसियों का गलत इस्तेमाल करती हैं। देश में लोकतंत्र खतरे में है? यह सवाल किया गया। इस पर यूपी के 32 फीसदी लोगों ने माना कि हां देश में लोकतंत्र खतरे में है। वहीं, 59 फीसदी लोगों ने लोकतंत्र को किसी प्रकार का खतरा न होने की बात कही है।

भ्रष्टाचार पर रोक के मुद्दे को मुहर
सर्वे में भ्रष्टाचार को रोकने में मोदी सरकार की सफलता के संबंध में सवाल पूछा गया। 69 फीसदी लोगों ने माना कि मोदी सरकार भ्रष्टाचार को रोकने में सफल हुई है। वहीं, यूपी के 26 फीसदी लोगों ने भ्रष्टाचार को रोकने में सफल नहीं रहने की बात कही है। भ्रष्टाचार और जांच एजेंसियों के गलत इस्तेमाल का मामला पिछले दिनों खूब उठा था। कानपुर और कन्नौज में इत्र कारोबारियों पर छापेमारी के बाद केंद्रीय एजेंसियों के गलत इस्तेमाल का आरोप लगाया गया था। हालांकि, लोग भ्रष्टाचार के मामले पर सरकार को समर्थन देते दिख रहे हैं।

यूपी में एनडीए को बड़ी बढ़त
उत्तर प्रदेश में अभी लोकसभा चुनाव होने की स्थिति में भारतीय जनता पार्टी एक बार फिर सबसे बड़ा दल बनकर उभरेगी। पीएम नरेंद्र मोदी पर लोगों का भरोसा बढ़ेगा। अभी लोकसभा चुनाव होने की स्थिति में एनडीए को 67 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है। वहीं, अखिलेश यादव के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी गठबंधन को 10 सीटें मिल सकती हैं। बहुजन समाज पार्टी को 2 और कांग्रेस पार्टी को एक सीट मिलने का अनुमान जताया गया है।