‘मंच पर कश्मीरी पंडित, मीटिंग में मुसलमान…’, राहुल गांधी पर बीजेपी का हमला

0
19

नई दिल्ली
वैष्णो माता के दरबार में राहुल गांधी की हाजिरी और खुद को कश्मीरी पंडित बताए जाने पर बीजेपी चिढ़ गई है। एक टीवी चैनल पर डिबेट के दौरान बीजेपी प्रवक्ता राजीव जेटली ने कहा कि मां के दरबार में तो अकबर भी गया था। राहुल के खुद को कश्मीरी पंडित बताए जाने पर उन्होंने पूछा कि दादा फिरोज गांधी को भूल गए क्या। जेटली ने कहा कि आज खुद को कश्मीरी पंडित कहने वाले जब मुस्लिम बुद्धिजीवियों के बीच जाते हैं तो कहते हैं कि उनकी पार्टी तो मुसलमानों की है। ऐसे लोग देश का नेतृत्व करने का दावा करें तो इससे बड़ा मजाक क्या होगा।

‘मंच पर कश्मीरी पंडित, मीटिंग में मुसलमान…बहुत बड़ा मजाक’
हिंदी न्यूज चैनल न्यूज18 इंडिया के एक डिबेट शो में बीजेपी प्रवक्ता राजीव जेटली ने कहा, ‘आप मंच पर खड़े होकर बोलते हैं कि मैं एक कश्मीरी पंडित हूं। जब आप मुस्लिम बुद्धिजीवियों की पार्टी में जाते हैं तो कहते हैं कि आप मुसलमान हैं और हमारी तो पार्टी ही मुसलमानों की है। आप अपने पिता को सम्मान नहीं दे सकते। अपनी राजनीतिक पार्टी को एक धर्म विशेष से जोड़कर रखते हैं। इस तरह के लोग अगर किसी जगह पर अपनी कास्ट, अपना सरनेम, अपनी जाति बदलते हैं और उसके बाद इस देश के अंदर नेतृत्व करने का दावा करें तो इससे बड़ा मजाक देश की जनता के साथ क्या हो सकता है।’

‘मां के दरबार में तो अकबर भी गया था’
राहुल के वैष्णो माता दरबार में जाने पर बीजेपी प्रवक्ता ने कहा, ‘मां के दरबार में तो किसी को भी जाने का अधिकार है, मां के दरबार में तो अकबर भी गया था। जो जाता है वह आशीर्वाद भी पाता है। राहुल गांधी जी गए हैं तो उनका स्वागत करना चाहिए। इसके पीछे राजनीति नहीं होनी चाहिए।’ इसके बाद उन्होंने राहुल गांधी पर अपने ही दादा के अपमान का आरोप लगाते हुए कहा, ‘लेकिन एक बात जरूर कहूंगा कि मुझे अपने पिता पर गर्व है, सबको अपने पिता पर गर्व होता है। ये पहले ऐसे व्यक्ति हैं जो इतने बड़े राजनीतिक परिवार से आते हैं लेकिन उन्हें अपने पिता के नाम पर गर्व नहीं है, जिनको अपने नाना के नाम पर गर्व है। क्यों आपको अपने पिता के नाम पर गर्व नहीं होता।’

‘राहुल गांधी के दादाजी की पहचान को क्यों मारा जा रहा है?’
राहुल गांधी पर अपने दादा को भुला देने का आरोप लगाते हुए बीजेपी प्रवक्ता ने सवाल किया कि फिरोज गांधी की पहचान को क्यों मारा जा रहा है। उन्होंने कहा, ‘मैं बहुत दुखी हूं आज। मैं सम्मान की लड़ाई लड़ रहा हूं। मैं मरहूम फरदून जहांगीर घांडी की लड़ाई लड़ रहा हूं, GHANDY फिरोज गांधी के पिताजी का सरनेम था। उनकी लड़ाई लड़ रहा हूं। उनकी आइडेंटिटी को क्यों मारा जा रहा है।’

दो दिन पहले ही थी फिरोज गांधी की पुण्यतिथि
संयोग से दो दिन पहले ही बुधवार को राहुल गांधी के दादा फिरोज गांधी की 61वीं पुण्यतिथि थी। इस मौके पर प्रयागराज स्थित उनके कब्र पर उनके परिवार का कोई भी शख्स श्रद्धांजलि देने नहीं पहुंचा। दरअसल प्रयागराज के ममफोर्ड गंज में एक कब्रिस्तान है। जहां पर फिरोज गांधी की समाधि है।