कोविड मृतकों के परिजनों को मिले कितना मुआवजा? गाइडलाइंस के लिए सरकार को मिले और चार हफ्ते

0
19

नई दिल्ली
केंद्र सरकार को कोविड-19 महामारी से जान गंवाने वालों के परिजनों को मुआवजा दिए जाने की गाइडलाइंस तैयार करने को और वक्त मिल गया है। सुप्रीम कोर्ट ने इसकी मियाद चार हफ्ते बढ़ा दी है। देश की सर्वोच्च अदालत ने 30 जून के अपने आदेश में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (NDMA) से छह हफ्ते में गाइडलाइंस तैयार करने को कहा था। एनडीएमए ने 28 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगाई थी कि उसे मृतक के परिजनों को मुआवजा दिए जाने का पैमाना तय करने के लिए कुछ और वक्त दिया जाए। सुप्रीम कोर्ट ने याचिका पर सुनवाई करते हुए तय वक्त की सीमा चार हफ्ते बढ़ा दी।

केंद्र को और मिले चार हफ्ते
शीर्ष अदालत ने 30 जून के अपने फैसले में कहा था कि सरकार को कोविड-19 महामारी से हुई मौतों का मुआवजा तो देना होगा, हालांकि उसने मुआवजे की रकम खुद से तय नहीं करते हुए इसकी जिम्मेदारी सरकार पर छोड़ दी। विभिन्न याचिकाओं पर सुनवाई कर रहे सुप्रीम कोर्ट के सामने सरकार ने कहा था कि वो हर मृतक के परिजन को चार-चार लाख रुपये का मुआवजा नहीं दे सकती है। सरकार की इस दलील से सुप्रीम कोर्ट ने भी सहमति जताई। साथ ही कहा कि वो खुद ही ऐसा तंत्र बनाए जिससे मृतक के परिजनों को सम्मानजनक रकम जरूर मिले।

सुप्रीम कोर्ट ने मानी थी केंद्र की दलील
सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के नोटिस पर अपने हलफनामे में कहा था कि आपदा कानून के दायरे में भूकंप, बाढ़ जैसी 12 तरह की प्राकृतिक आपदाएं आती हैं। इन आपदाओं में किसी की मौत पर राज्य आपदा राहत कोष से 4 लाख रुपये का मुआवजा सुनिश्चित है, लेकिन कोरोना महामारी उससे अलग है। तब सुप्रीम कोर्ट ने भी केंद्र सरकार की यह दलील स्वीकार की थी। उसने कहा था कि कोविड मृतकों के परिजनों को कितनी रकम दी जाए, यह रकम सरकार खुद तय कर ले, लेकिन मुआवजा जरूर दे।

भारत में 4.31 लाख से ज्यादा कोविड मौतें
ध्यान रहे कि देशभर में अब तक कोविड-19 महामारी ने 4,31,642 जानें लील ली हैं। सोमवार सुबह 8 बजे जारी ताजा आंकड़ों में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि बीते 24 घंटों में इस महामारी ने 417 लोगों की जान ले ली है। वहीं, देश में कोरोना वायरस से कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3,22,25,513 हो गई है। मंत्रालय ने बताया देशभर में उपचाराधीन या एक्टिव मरीजों की संख्या घटी है और यह 3,81,947 हो गई है।