नीतीश ने मंत्री बनने पर RCP को क्यों नहीं किया बधाई वाला ट्वीट, वजह जान लीजिए

0
28

पटना
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के नेतृत्व वाली एनडीए-2 सरकार में जेडीयू भी शामिल हो गई है। हालांकि, ऐसी चर्चाएं थीं कि जेडीयू को केंद्रीय कैबिनेट (Cabinet Expansion) में ज्यादा नुमाइंदगी मिल सकती है, लेकिन फाइनल लिस्ट आने पर ऐसा कुछ भी देखने को नहीं मिला। पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामचंद्र प्रसाद सिंह (RCP Singh) को ही कैबिनेट मंत्री के तौर पर मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। उन्हें मोदी सरकार में इस्पात मंत्री बनाया गया है। आरसीपी सिंह के मंत्री बनने पर उन्हें लगातार बधाई संदेश मिल रहे हैं। लेकिन बिहार के सीएम नीतीश कुमार ( की चुप्पी को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं। हर कोई यही जानना चाह रहा है कि आखिर उन्होंने आरसीपी सिंह को बधाई वाला ट्वीट क्यों नहीं किया? क्या नीतीश किसी वजह से नाराज हैं?

क्या आरसीपी के मंत्री बनने से खुश नहीं है नीतीश?ये सवाल इसलिए भी उठ रहे हैं क्योंकि आरसीपी सिंह को नीतीश कुमार का बेहद करीबी माना जाता है। इतनी अहम जिम्मेदारी पर उनके ट्वीट का इंतजार तो सभी को रहता है। वैसे भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर बेहद एक्टिव रहते हैं। लेकिन इस बार उनकी चुप्पी सियासी गलियारे में हलचल पैदा कर रही है। वहीं सियासी जानकारों के मुताबिक, नीतीश की इस चुप्पी के पीछे की वजह बेहद खास है। दरअसल, बिहार के मुख्यमंत्री ये नहीं जताना चाहते हैं कि आरसीपी सिंह को मिली जिम्मेदारी से वो ज्यादा खुश हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि अगर उन्होंने ऐसा किया तो पार्टी में नाराजगी और बढ़ सकती है।

सांकेतिक भागीदारी से दो साल पहले किया इनकार, फिर इस बार क्यों मान गए नीतीशइसकी वजह ये है कि कैबिनेट विस्तार पर चर्चा के दौरान पार्टी के कद्दावर नेता राजीव रंजन उर्फ ललन सिंह को मंत्रिमंडल में शामिल करने की अटकलें थीं। हालांकि, ऐसा नहीं हुआ। कहा ये भी जा रहा कि जेडीयू नेतृत्व की ओर से केंद्र में 3 मंत्री पद की डिमांड थी लेकिन मिला एक। इससे पहले 2019 में नीतीश ने केंद्रीय कैबिनेट में सांकेतिक भागीदारी बताकर मोदी सरकार में शामिल होने से इनकार कर दिया था, लेकिन अब सांकेतिक पद दो साल बाद उन्हें क्यों कबूल हो गया? ये सब कई सवाल हैं जिन पर पार्टी में चर्चा का दौर शुरू हो सकता है। सियासी जानकारों के मुताबिक, ऐसी किसी भी स्थिति को टालने के लिए ही नीतीश ने कैबिनेट विस्तार को लेकर चुप्पी साधने का फैसला लिया।

आरसीपी सिंह ने संभाला इस्पात मंत्री का कार्यभारदूसरी ओर, रामचंद्र प्रसाद सिंह ने गुरुवार को देश के नए इस्पात मंत्री का पदभार संभाल लिया। उन्होंने धर्मेंद्र प्रधान की जगह ली, जिन्हें मोदी सरकार के नए कैबिनेट फेरबदल में शिक्षा मंत्रालय के साथ कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है। आरसीपी सिंह जेडीयू की ओर से राज्यसभा में बिहार का प्रतिनिधित्व करते हैं। वह 1984 बैच के सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी हैं और उन्होंने विभिन्न पदों पर रहकर 25 वर्षों से अधिक समय तक सेवा की है।