अजीत सिंह हत्याकांड मामले में बाहुबली धनंजय सिंह भगोड़ा घोषित, पत्नी बनी हैं जिला पंचायत अध्यक्ष

0
23

लखनऊ
लखनऊ जिला न्यायालय ने पूर्व सांसद और 25 हजार के इनामी धनंजय सिंह को भगोड़ा घोषित कर दिया है। लखनऊ में जनवरी में हुई पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की हत्या के मामले में धनंजय सिंह आरोपी है। इस मामले में लखनऊ पुलिस अब तक शूटर सहित कई आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है।

पुलिस के हाथ नहीं लग सका धनंजय
कुछ महीने पहले ही धनंजय सिंह जेल से रिहा हुआ है। हाल ही में सम्पन्न हुए जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में उसने जौनपुर से अपनी पत्नी को चुनाव लड़वाया और जितवा भी दिया, लेकिन लखनऊ पुलिस को अब तक धनंजय सिंह नहीं मिल सका। पुलिस गिरफ्तारी के लिए उसके घर पर कई बार दबिश दे चुकी है।

निष्पक्ष जांच को लेकर आरोपी धनंजय ने की थी अपील
धनंजय सिंह इस मामले में निष्पक्ष जांच को लेकर हाई कोर्ट में अपील दायर कर चुका है, लेकिन वहां से भी उन्हें राहत नहीं मिली। धनंजय सिंह के खिलाफ में केस दर्ज किया गया था। इसको लेकर याची ने मामले में दर्ज प्राथमिकी को चुनौती देकर गिरफ्तारी पर रोक लगाए जाने की गुजारिश की थी। याची की तरफ से कहा गया था कि उसे इस मामले में झूठा फंसाया गया है।

अजीत सिंह हत्याकांड से थर्राया था लखनऊ
मऊ के अजीत सिंह की हत्या 6 जनवरी 2021 को लखनऊ में कर दी गई थी। इस मामले में अजीत की पत्नी रानू सिंह ने मऊ में जौनपुर के पूर्व सांसद धनंजय सिंह, आजमगढ़ के माफिया कुंटू सिंह उर्फ ध्रुव सिंह, अखंड सिंह और गिरधारी विश्वकर्मा उर्फ डॉक्टर के खिलाफ लिखित तहरीर दी थी। मऊ पुलिस ने लखनऊ में वारदात होने के कारण उसे संबंधित थाने में देने की बात कहकर वापस भेज दिया था। बाद में लखनऊ के थाना विभूतिखंड में अजीत के करीबी मोहर सिंह की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया था।

आरोपी धनंजय की पत्नी बानी जिला पंचायत अध्यक्ष
धनंजय सिंह की पत्नी श्रीकला रेड्डी 3 जुलाई को हुए जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में जीती हैं। उन्होंने बीजेपी से बगावत कर उनके खिलाफ लड़ने वाली नीलम सिंह को 15 वोट से हराकर जीत दर्ज की। उनकी जीत में उनके पति का भरपूर सहयोग रहा है।