संसद का मॉनसून सत्र 19 जुलाई से, 13 अगस्त को होगा खत्‍म, 19 बैठकें होने की संभावना

0
27

नई दिल्ली 19 जुलाई से शुरू होगा। यह 13 अगस्त तक चलेगा। इस सेशन में 19 बैठकें होंगी। इस दौरान कोरोना के प्रोटोकॉल का पूरा ध्‍यान रखा जाएगा। दोनों सदनों की बैठक एक ही समय होगी। आधिकारिक आदेश में यह जानकारी दी गई है। इस बारे में लोकसभा और राज्यसभा दोनों की ओर से आदेश जारी हुए हैं।

लोकसभा की ओर से जारी आदेश में कहा गया है, ‘17वीं लोकसभा का छठा सत्र 19 जुलाई (सोमवार) को आरंभ होगा। सत्र का समापन 13 अगस्त (शुक्रवार) को हो सकता है।

वहीं, राज्यसभा के आधिकारिक आदेश में कहा गया है, ‘राष्ट्रपति ने राज्यसभा की बैठक को 19 जुलाई को आहूत किया है। सत्र का समापन 13 अगस्त को होना है।’

अधिकारियों ने बताया कि मॉनसून सत्र का आयोजन कोविड संबंधी दिशानिर्देशों का पालन करते हुए होगा। इस दौरान सोशल डिस्‍टेंसिंग यानी सामाजिक दूरी का पूरा ख्याल रखा जाएगा। दोनों सदनों की बैठक एक ही समय पर होगी।

ताजा आंकड़ों के मुताबिक, लोकसभा के 444 और राज्यसभा के 218 सदस्यों को वैक्‍सीन की कम से कम एक खुराक दी जा चुकी है। राज्यसभा की ओर से बताया गया है कि इस सत्र में कुल 19 बैठकें होंगी।

सत्र के हंगामेदार रहने के आसार
इस बार मॉनसून सत्र के हंगामेदार रहने के आसार हैं। विपक्ष की ओर से कई मुद्दे उठाए जा सकते हैं। इनका सही तरीके से बचाव करने की रणनीति पर बीजेपी काम कर रही है। पार्टी सांसदों से कहा गया है कि वे संभावित मुद्दों पर जवाब देने के लिए तैयार रहें।

उठ सकते हैं ये मुद्दे अगले साल उत्तर प्रदेश सहित पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। इन्‍हें देखते हुए कुछ नए मुद्दे भी मॉनसून सत्र के दौरान उठ सकते हैं। ऐसा ही एक मुद्दा धर्मांतरण का है। उत्तर प्रदेश पुलिस की ओर से बीते दिनों धर्मांतरण के बड़े गिरोह का खुलासा किए जाने के बाद से सियासी सरगर्मी बढ़ गई। इस मुद्दे को भाजपा के गोरखपुर से सांसद रवि किशन उठाने की बात कह चुके हैं। इसके अलावा बंगाल हिंसा, कोरोना, किसान आंदोलन जैसे मुद्दे भी संसद में उठने के उम्मीद है।