रामदेव के खिलाफ IMA की याचिका पर चल रही थी सुनवाई, जज को याद आया जूही चावला केस

0
39

नई दिल्ली
दिल्ली हाई कोर्ट में गुरुवार को योग गुरु रामदेव के खिलाफ दिल्ली मेडिकल असोसिएशन की याचिका पर सुनवाई के दौरान जज साहब को जूही चावला केस की याद आ गई। सुनवाई के दौरान जस्टिस हरिशंकर ने हल्के-फुल्के अंदाज में कहा, ‘मैं तो बस यह देखने जा रहा हूं कि इसकी रिपोर्टिंग कैसे होती है…मुझे खुशी है कि मैंने जूही चावला वाले मामले को नहीं सुना।’

…जब सुनवाई के दौरान गाना गाने लगा था जूही चावला का फैन
दरअसल, एक दिन पहले ही बुधवार को 5जी ट्रायल के खिलाफ अभिनेत्री जूही चावला की याचिका पर वर्चुअल सुनवाई के दौरान अभिनेत्री का एक फैन ‘घूंघट की आड़ में दिलबर का दीदार अधूरा लगता है…’ गाना गाने लगा। उसे तुरंत सुनवाई से बाहर किया गया लेकिन थोड़ी ही देर में वह दूसरी आईडी से कनेक्ट हो गया और फिर जूही की फिल्म के एक और गाने ‘लाल लाल होठों पर गोरी किसका नाम है…’ को गाने लगा।

उसे दूसरी बार सुनवाई से बाहर किया गया लेकिन वह फिर एक अलग आईडी से जुड़ा और ‘मेरी बन्नो की आएगी बारात…’ गाने लगा। इस पर जज ने उस व्यक्ति को म्यूट करने का निर्देश दिया। जस्टिस मिढा ने उस शख्स की पहचान करके उसके खिलाफ अवमानना की कार्रवाई करने का आदेश दिया। दरअसल अभिनेत्री ने अपनी इंस्टाग्राम प्रोफाइल पर हाई कोर्ट में होने वाली सुनवाई का लिंक शेयर कर रखा था।

रामदेव को कोर्ट की नसीहत, अगली सुनवाई तक एलोपैथी पर बयान से बचे
दिल्ली हाई कोर्ट ने गुरुवार को रामदेव को समन जारी करते हुए नसीहत दी कि आप कोरोनिल का प्रचार करें, कोई दिक्कत नहीं है लेकिन एलोपैथी को लेकर ऐसे बयान देने से बचें। दरअसल, डीएमए ने कोरोना के इलाज में कोरोनिल के कारगर होने के पतंजलि के दावे पर सवाल उठाते हुए कोर्ट से गुहार लगाई है कि रामदेव को कोरोनिल को लेकर झूठे दावे करने से रोका जाए। इससे पहले योग गुरु एलोपैथी और डॉक्टरों के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणियां कर चुके हैं।