दरभंगा के निजी अस्पताल पर एक्शन, मृत कोविड मरीज के परिजनों से ज्यादा चार्ज लेने पर कार्रवाई

0
38

दरभंगा
कोरोना संकट के बीच कई बार ऐसी खबरें सामने आई हैं जिसमें अस्पतालों पर संक्रमित मरीज के परिजनों से ज्यादा पैसों की वसूली के आरोप लगे। बिहार के दरभंगा में भी ऐसे ही एक मामले को लेकर अस्पताल पर एक्शन लिया गया है। अस्पताल प्रशासन पर एक मृत कोविड मरीज के परिजनों से ज्यादा चार्ज लेने को लेकर कार्रवाई की गई है।

इस संबंध में शिकायत मिलने के बाद जिले के डीएम त्यागराजन एसएम की ओर से तीन सदस्यीय जांच समिति का गठन किया गया, जिसकी रिपोर्ट में मामले की पुष्टि हुई। यही नहीं पैनल ने अस्पताल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू करने की भी सिफारिश की है।

मृत मरीज के परिजनों से अस्पताल ने 1.12 लाख रुपये ज्यादा लिएपूरा मामला 21 मई का है, जब बहेरी प्रखंड निवासी दिलीप को दरभंगा के पारस ग्लोबल अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी। इस बीच अस्पताल प्रशासन ने मृतक दिलीप के पिता अजीत कुमार सिंह से करीब 1.12 लाख रुपये की अतिरिक्त राशि ली। बेटे की मौत से आहत अजीत कुमार सिंह ने अस्पताल प्रशासन के खिलाफ आवाज बुलंद की, जिसके बाद जिलाधिकारी ने तीन सदस्यीय पैनल बनाया।

डीएम के निर्देश बनी तीन सदस्यीय टीम ने क्या कहाजांच के बाद इस समिति ने अपनी रिपोर्ट में उल्लेख किया कि कोविड मरीज का तय गाइडलाइंस के अनुसार इलाज नहीं किया गया था और बहुत सारी गैर जरूरी दवाएं भी दी गई थीं। इलाज के दौरान मरीज दिलीप सिंह केवल तीन दिनों के लिए वेंटिलेटर पर थे, लेकिन उनके पिता से नौ दिनों का चार्ज किया गया। उनसे ‘नई पीपीई किट और रोजाना इस्तेमाल वाली दूसरी चीजों’ के लिए पैसे भी मांगे गए।

अस्पताल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू करने की भी सिफारिशपैनल ने जांच में यह भी कहा कि राज्य सरकार की ओर से कोरोना के इलाज में निर्धारित दरों के आधार पर मरीज का मेडिकल बिल 1.18 लाख रुपये से ज्यादा का नहीं होना चाहिए। लेकिन पीड़ित परिवार से 2.30 लाख रुपये वसूले गए। खुद डीएम त्यागराजन एसएम ने बुधवार को इस बात की जानकारी दै। उन्होंने बताया कि अस्पताल को मृतक के परिजनों को 1.12 लाख रुपये लौटाने को कहा गया है। साथ ही अस्पताल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू करने की भी बात कही है।