LoC पर सीजफायर के 100 दिन पूरे, जायजा लेने पहुंचे आर्मी चीफ जनरल नरवणे

0
28

नई दिल्ली
लाइन ऑफ कंट्रोल पर भारत और पाकिस्तान के बीच का गंभीरता से पालन करते हुए 100 दिन हो गए हैं। कश्मीर घाटी और लाइन ऑफ कंट्रोल पर हालात का जायजा लेने इंडियन आर्मी चीफ जनरल एम एम नरवणे बुधवार को श्रीनगर पहुंचे। यहां वह आर्मी के सीनियर अधिकारियों से सुरक्षा स्थिति पर चर्चा करेंगे, साथ ही वह लाइन ऑफ कंट्रोल पर फॉरवर्ड पोस्ट में जाकर भी जवानों से जमीनी हकीकत पूछेंगे।

24 फरवरी की रात से भारत और पाकिस्तान के बीच सीजफायर लागू है। वैसे तो 2003 में भारत-पाकिस्तान के बीच सीजफायर अग्रीमेंट हुआ था लेकिन पाकिस्तान ने कुछ समय बाद ही इसका उल्लंघन शुरू कर दिया था। फरवरी में इसका गंभीरता से पालन करने को लेकर दोनों देशों की आर्मी ने बयान जारी किया। जिसके बाद इन 100 दिनों में सीजफायर का कोई उल्लंघन नहीं हुआ है।

आर्मी सूत्रों के मुताबिक सीजफायर तो है लेकिन पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में अब भी आतंकियों के कैंप हैं। साथ ही आतंकियों की तरफ से घाटी में हथियार सप्लाई करने की कोशिशें भी जारी हैं। उन्होंने कहा कि घुसपैठ की कोशिश में कुछ कमी जरूर आई है। पहले सीजफायर उल्लंघन की आड़ में आतंकी घुसपैठ करते थे। आतंकियों को घुसपैठ में मदद करने के लिए पाकिस्तान आर्मी सीजफायर का उल्लंघन करते हुए गोले दागती थी।

2018 में भी भारत और पाकिस्तान के बीच सीजफायर सही से लागू करने की बात हुई थी लेकिन फिर पाकिस्तान ने इसका लगातार उल्लंघन किया। इसलिए पाकिस्तान पर पूरा भरोसा नहीं किया जा सकता है। आर्मी के एक अधिकारी के मुताबिक सीजफायर चल रहा है लेकिन हमने अपने तैनाती और चौकसी कम नहीं की है। साथ ही आतंकियों के सफाए के लिए ऑपरेशन ऑल आउट भी जारी है। पिछले साल यानी 2020 में पाकिस्तान ने 17 साल में सबसे ज्यादा सीजफायर का उल्लंघन किया था। तब पाकिस्तान ने 4700 बार सीजफायर का उल्लंघन किया।

ईस्टर्न लद्दाख में सैनिकों को कुछ पीछे करने (डिसइंगेजमेंट) के बाद चीन के साथ तनाव में भले ही कुछ कमी आई है लेकिन दोनों तरफ से तैनाती में कोई कमी नहीं हुई है। चीन तिब्बत के इलाके में युद्धाभ्यास भी कर रहा है। आर्मी चीफ लगातार चीन और पाकिस्तान बॉर्डर पर सुरक्षा स्थिति का जायजा ले रहे हैं ताकि जरूरत पड़ने पर उसी हिसाब से रणनीति और तैनाती में बदलाव किया जा सके। इससे पहले 19-20 मई को आर्मी चीफ नॉर्थ ईस्ट गए थे और चीन के साथ लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर सिक्योरिटी सिचुएशन का जायजा लिया था।