तो बच जाती 49 लोगों की जान, बार्ज पी-305 के कैप्टन ने चेतावनी पर नहीं दिया ध्यान, चीफ इंजीनियर का आरोप

0
37

नई दिल्ली
मुंबई के अपतटीय क्षेत्र में चक्रवात ताउते के दौरान डूबे बार्ज पी-305 के मुख्य इंजीनियर रहमान शेख ने बृहस्पतिवार को आरोप लगाया कि बार्ज के कैप्टन ने चक्रवात की चेतावनी को गंभीरता से नहीं लिया, जिस वजह से चालक दल के कम से कम 49 सदस्यों की मौत हो गई। रहमान ने बार्ज की समुद्री यात्रा के योग्य होने पर भी सवाल किया है।

चक्रवात के बारे में लगाया गलत अनुमान
‘पी-305’ बार्ज सोमवार शाम को अरब सागर में डूब गया था। इस पर सरकारी कंपनी ओएनजीसी के अपटतीय तेल खनन प्लेटफॉर्म के रखरखाव के काम में लगे कर्मी मौजूद थे। शेख इस दुर्घटना में घायल हो गए थे। उन्होंने स्वस्थ होने के बाद एक वीडियो में कहा कि कैप्टन बलविंदर सिंह ने जोर दिया कि हवा की रफ्तार बहुत तेज नहीं होगी और चक्रवात सिर्फ एक घंटे रुकेगा।

कैप्टन और क्लाइंट की वजह से हुई दुर्घटना
यह वीडियो शेख के भाई आलम ने शूट किया है। आलम ने यह वीडियो साझा किया है जिसमें शेख ने कहा है, “ कैप्टन ने कहा कि हवा की गति 75 किलोमीटर प्रतिघंटा से अधिक नहीं होगी। यह 11 बजे शुरू होगा और 12 बजे खत्म हो जाएगा। यह पूरी घटना कैप्टन और ग्राहक (क्लाइंट) की वजह से हुई है।” बलविंदर सिंह उन 26 लोगों में शामिल हैं जो अब भी लापता हैं।

बिना लाइफ जैकेट के ही पानी में कूदे
बताया जाता है कि वह जीवन रक्षक जैकेट के बिना ही समंदर में कूद गए थे। रहमान को भी 24 घंटे में पानी में रहना पड़ा और फिर नौसेना ने उन्हें बचाया। बार्ज पर 261 लोग मौजूद थे।

186 को बचाया, 26 लोगों की तलाश जारी
बार्ज पी-305 पर मौजूद 261 लोगों में 186 लोगों की जान बचा ली गई है। 26 लोग अब भी लापता हैं और उन्हें खोजने के लिए नौसेना और तटरक्षक बल का तलाश एवं बचाव अभियान जारी है। एक अधिकारी ने बताया कि बेहद खराब मौसम से जूझते हुए नौसेना के जवानों ने अब तक 186 को बचा लिया है। नौसेना के पोत तथा विमान पी305 पर मौजूद रहे लापता लोगों की तलाश कर रहे हैं। एक अधिकारी ने बताया कि अब लापता लोगों के जीवित मिलने की संभावना बहुत ही कम है।