कांग्रेस का तंज- कोविड से निजात वैक्सीन दिलाएगी, पीएम का भाषण नहीं

0
31

नई दिल्ली कोविड प्रबंधन को लेकर कांग्रेस ने शुक्रवार को एक बार फिर पीएम मोदी व उनकी सरकार पर निशाना साधा। कांग्रेस ने देश में और वैक्सीन की किल्लत के मद्देनजर पीएम मोदी पर कटाक्ष किया। उसने कहा कि लोगों को से वैक्सीन ही निजात दिलाएगी, पीएम के भाषण नहीं।

कांग्रेस ने पीएम पर हमला बोलते हुए कहा कि वह लोगों की जान बचाने पर ध्यान दें, न कि अपनी इमेज ब्रांडिंग पर। कांग्रेस की ओर से यह हमला कांग्रेस महासचिव शक्ति सिंह गोहिल ने किया।

उन्होंने देश में को लेकर सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि दुनिया में अगर टीकाकरण को लेकर तुलना की जाए तो दुनिया में भारत का नंबर 77वां आता है।

गोहिल का कहना था कि दुनिया के चार देश सेशेल्स, इजरायल, संयुक्‍त अरब अमीरात (यूएई) और सैंड मैरिनो ने अपनी 100 फीसदी आबादी को टीका लगाने में सफलता हासिल की। वहीं, ब्रिटेन और अमेरिका से लेकर मालदीव जैसे कई देशों में 80 फीसदी से ज्यादा आबादी को कोरोना का टीका लग चुका है। जबकि अफसोस है कि वैक्सीन बनाने के मामले में दुनिया का अव्वल देश भारत अब तक कुल 10 फीसदी लोगों को ही वैक्सीन का पहला टीका लगा पाया है। जबकि दोनों टीके 2.7 फीसदी लोगों को ही लग पाए हैं।

कांग्रेस ने दावा किया कि ये सरकारी आंकड़ों पर आधारित ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के डेटा इंटरनेट पर भी मौजूद हैं। कांग्रेस का कहना था कि वैज्ञानिकों का मानना है कि हमें इस महामारी से जीतने के लिए अपनी 60 फीसदी से ज्यादा आबादी का टीकाकरण करना होगा। अगर तीसरी लहर के आने से पहले हम ऐसा कर पाए तो इसकी चेन को तोड़ना आसान होगा।

ज‍िम्‍मेदारी से भागने का आरोप
गोहिल का कहना था कि स्थिति बिगड़ने पर केंद्र ने वैक्सीन को आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी राज्यों पर सौंप दी है। जबकि अपने यहां यूनिवर्सल टीकाकरण का मॉडल रहा है, जिसमें हरेक को मुफ्त टीका देने की जिम्मेदारी सरकार की होती है।

वहीं, कांग्रेस ने देश के लोगों के लिए टीके की व्यवस्था पूरी किए बिना इसके निर्यात को लेकर सरकार को आड़े हाथों लिया। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार व बीजेपी वैक्सीन निर्यात को अपनी मजबूरी बताकर देश को गुमराह कर रही है।

गांवों में महामारी काे फैलने से राेकना हाेगा
गोहिल का कहना था कि ‘वैक्सीन मैत्री’ के नाम पर सरकार देश को अंधेरे में रख रही है। कांग्रेस ने सरकार को चेताते हुए कहा कि अब यह महामारी शहरों से निकलकर गांवों की ओर जा रही है, अगर हमने अभी भी कोई कदम नहीं उठाया तो अंतहीन तबाही होगी। ऐसे में हमारी पहली प्राथमिकता लोगों की जान बचाना होना चाहिए।