कैसे हो वैक्सीनेशन? CoWIN पर टाइम बुक हो तो भी वैक्सीन की गारंटी नहीं… मुश्किल समझिए

0
45

नई दिल्ली
वैक्सीनेशन के लिए CoWin पर स्लॉट की बुकिंग तमाम यूजर्स के लिए एक अबूझ पहेली जैसी हो गई है। प्रक्रिया जटिल भी है और खामियां भी है। आलम यह है कि कई जगहों के लिए 18+ का बुकिंग स्लॉट उपलब्ध ही नहीं है। पहले से बुक्ड दिखा रहे हैं। ऐसी कोई व्यवस्था भी नहीं जिससे पता चले कि स्लॉट कब, किस टाइम पर बुकिंग के लिए उपलब्ध होंगे। इतना ही नहीं, कई बार टाइम स्लॉट बुक हो जाने के बाद भी इस बात की गारंटी नहीं है कि आपको वैक्सीन लग ही जाएगी। लोग नियत समय पर वैक्सीनेशन सेंटर पहुंच रहे हैं और पता चलता है कि वहां तो वैक्सीन ही नहीं है। CoWin की इन गंभीर खामियों को समय रहते दूर नहीं किया गया तो यह मजाक बनकर रह जाएगी।

18+ के लिए टाइम स्लॉट बुकिंग बड़ी चुनौती
1 मई से देश में 18 साल से ऊपर के लोगों के भी वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। वैक्सीन की कमी की वजह से कुछ राज्यों में अभी 18+ का वैक्सीनेशन शुरू ही नहीं हुआ है। कई राज्य कुछ चुनिंदा जिलों में ही अभी 18+ के लिए वैक्सीनेशन खोला है। मिसाल के तौर पर यूपी में अभी कुछ चुनिंदा जिलों और म्यूनिसपैलिटी में ही 18 साल से ऊपर के लोगों के लिए कोरोना की वैक्सीन लग रही है। नोएडा यानी गौतम बुद्ध नगर जिला भी उनमें से एक है, जहां 18+ के लिए वैक्सीनेशन शुरू है। 18+ के लोगों को वैक्सीनेशन के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है। लोग कोविन साइट या आरोग्य सेतु ऐप से रजिस्ट्रेशन तो कर ले रहे हैं, लेकिन टाइम स्लॉट की बुकिंग नहीं हो पा रही। एक भी वैक्सीनेशन सेंटर पर 18 से 44 साल के लोगों के लिए स्लॉट उपलब्ध नहीं है।

पढ़ें:

अगले स्लॉट कब से उपलब्ध होंगे, उसकी कोई जानकारी ही नहीं
यूजर जब टाइम स्लॉट बुकिंग की कोशिश कर रहे तो स्लॉट ही खाली नहीं हैं, सभी स्लॉट बुक्ड हैं या फिर NA स्टेटस दिखा रहा है। वैक्सीनेशन के लिए बड़ी तादाद में लोगों के रजिस्ट्रेशन कराने और अपॉइंटमेंट लेने की वजह से स्लॉट खाली नहीं है, यह समझा जा सकता है। लेकिन असल समस्या यह है कि यूजर को पता तो चले कि बुकिंग के लिए अगले स्लॉट आखिर कब उपलब्ध होंगे। उन्हें इसका कोई नोटिफिकेशन नहीं मिलता। यही हाल दिल्ली समेत कई शहरों का भी है।

अपॉइंटमेंट मिल गया लेकिन जब वैक्सीनेशन सेंटर पहुंचे तो वैक्सीन ही नहीं
स्लॉट की उपलब्धता को लेकर नोटिफिकेशन का न मिलना तो अभी छोटी समस्या है। सबसे गंभीर खामी तो यह है कि किसी तरह अगर टाइम स्लॉट की बुकिंग हो भी गई तो इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि नियत समय पर संबंधित वैक्सीनेशन सेंटर पर जाने पर आपको वैक्सीन मिल ही जाएगी। यह 18+ के साथ-साथ 45+ के लोगों को भी इस परेशानी से दो चार होना पड़ रहा है। दिल्ली में रहने वाले 36 साल के भारत मल्होत्रा ऐहतियात के तौर पर पिछले एक-डेढ़ महीने से अपने घर की चौखट तक नहीं लांघे थे। पिछले हफ्ते उन्होंने खुद और अपनी मां के लिए वैक्सीनेशन स्लॉट बुक किया। सरकारी सेंटरों पर शायद ज्यादा भीड़ हो, यह सोचकर उन्होंने एक प्राइवेट हॉस्पिटल को पेड वैक्सीनेशन के लिए चुना। एक-डेढ़ महीने बाद वह अपने घर से निकले ताकि खुद को और अपनी मां को वैक्सीन लगवा सकें। जब वह तय समय पर अस्पताल पहुंचे तो पता चला कि वहां वैक्सीन ही नहीं है जबकि CoWin पर उस अस्पताल में वैक्सीन उपलब्ध दिखा रहा था।

CoWIN पर दिख रहा पर्याप्त हैं वैक्सीन डोज, सेंटर पर जाने पर पता चल रहा- एक भी नहीं
यूपी में देवरिया जिले के फुलवरिया पाण्डेय गांव के रहने वाले देवेंद्र पाण्डेय को भी ऐसी ही समस्या से जूझना पड़ा। उम्र 60 साल के ऊपर है लिहाजा उनके पास वैक्सीनेशन के लिए ऑनसाइट रजिस्ट्रेशन का विकल्प भी है लेकिन सुविधा के लिए उन्होंने खुद का और पत्नी का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन किया। CoWin पिन कोड डालने पर आस-पास के वैक्सीनेशन सेंटरों और वहां उपलब्ध वैक्सीन डोज से जुड़ा डेटा खुल गया। सबसे नजदीक में खोड़ा पीएचसी के वैक्सीनेशन सेंटर पर वैक्सीन की 46 डोज उपलब्ध दिख रही थी लिहाजा उन्होंने सुबह 9 से 11 बजे का टाइम स्लॉट बुक कर लिया। लेकिन जब वह वैक्सीनेशन सेंटर पर पहुंचे तो जवाब मिला कि वैक्सीन है ही नहीं। उसके बाद कई सेंटरों का चक्कर लगाने के बाद सोनाड़ी के कम्यूनिटी हेल्थ सेंटर पर किसी तरह पत्नी को तो वैक्सीन लग गई लेकिन उन्हें नहीं क्योंकि वैक्सीन खत्म था। हालांकि, CoWIN पर उस वक्त भी वहां कोविशील्ड की 46 डोज उपलब्ध दिख रही थीं।

CoWIN पर वैक्सीन अवेलेबिलिटी का गलत डेटा क्यों?
अगर टाइम स्लॉट बुक करने और संबंधित सेंटर पर तय समय पर पहुंचने के बाद भी यह जवाब मिले कि वैक्सीन ही नहीं तो कई सवाल उठते हैं। आखिर, वैक्सीनेशन सेंटरों पर उपलब्ध डोज का ब्यौरा गलत क्यों दिखाया जा रहा? अगर ब्यौरा गलत नहीं है तो संबंधित सेंटर की वैक्सीन आखिर गई कहां?

स्लॉट बुकिंग की समस्या का कुछ टेकी अपने स्तर पर निकाल रहे समाधान
18+ के लिए टाइम स्लॉट बुकिंग की समस्या को दूर करने के लिए कुछ टेकी रियल-टाइम सलूशंस पेश कर रहे हैं। वे कुछ ऐसे टूल डिवेलप किए हैं जो यूजर को टेलिग्राम चैनलों, ईमेल या वॉट्सऐप के जरिए स्लॉट एवलेबिलिटी का रियल टाइम अलर्ट भेज रहे हैं। चेन्नै के रहने वाले बर्टी थॉमस ने 45 साल से कम उम्र के लोगों के लिए under45.in टूल बनाया है। इसके जरिए यूजरस को टेलिग्राम ऐप के जरिए नोटिफिकेशन मिलता है। इसी तरह 4 दोस्तों अजहर हुसैन, श्याम सुंदर, अनुराग किशोर और अक्षय नौटियाल ने getjab.in नाम की वेबसाइट बनाई है जो स्लॉट एवलेबिलिटी को लेकर रियल-टाइम नोटिफिकेशन भेजती है। 6 मई को पेटीएम ने भी इसी तरह के स्लॉट नोटिफायर को शुरू करने का ऐलान किया। जैसे ही वैक्सीनेशन के लिए नया स्लॉट खुलता है, यूजर्स को पेटीएम चैट के माध्यम से उसका नोटिफिकेशन भेजा जा रहा है।