पिता के अंतिम संस्कार में क्यों नहीं पहुंचे जज साहब? तोड़ी चुप्पी- मैं खुद…

0
35

दीनबंधु सिंह, सिवान
बिहार के सिवान में एक जज साहब के पिता की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई, जिसके बाद वो अपने पिता के अंतिम संस्कार में शामिल होने नहीं पहुंचे। इस मुद्दे ने खासा तूल पकड़ लिया, जिसके बाद अब जज साहब ने इस पर चुप्पी तोड़ी है। अपने पिता के अंतिम संस्कार में शामिल नहीं होने को लेकर सिवान के एडीजे-6 जीवन लाल ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रही खबरों को भ्रामक बताया है। उन्होंने कहा कि वे अपने पिता से बेहद प्यार करते थे। कोरोना से संक्रमित पिता को बेहतर इलाज के लिए दिल्ली से अपने साथ सिवान लाए थे।

‘पिता के कोरोना पॉजिटिव होने पर बेहतर इलाज के लिए दिल्ली से सिवान ले आए’सिवान के एडीजे-6 जीवन लाल ने बताया कि 30 अप्रैल को दिल्ली में कोरोना से उनकी मां का निधन हो गया। पिता भी कोरोना से संक्रमित थे। मां के निधन के बाद वे दिल्ली गए थे। वहां पिता के इलाज में हो रही दिक्कतों को देखते हुए बेहतर इलाज के लिए अपने साथ सिवान ले आए। उन्होंने कहा कि दिल्ली में ऑक्सिजन मिलने में काफी कठिनाई हो रही थी।

जज बोले- मैं खुद कोविड पॉजिटिव हो गया, काफी बिगड़ गई तबीयतजज जीवन लाल ने कहा कि सिवान में पोस्टेड होने से उन्हें भरोसा था कि यहां काफी सुविधा मिलेगी। 5 मई को उन्होंने अपने पिता को डायट स्थित डेडिकेटेड कोविड हेल्थ केयर सेंटर में स्वयं जाकर भर्ती कराया। लेकिन इसी बीच वे खुद कोविड पॉजिटिव हो गए और उनकी तबीयत काफी बिगड़ गई।

‘मेरा पूरा परिवार कोविड से जंग लड़ रहा’जज साहब ने बताया कि इसी दौरान 8 मई को पिता के निधन की सूचना मिली। जिसे सुनने के बाद उनकी तबीयत और भी बिगड़ गई। इलाज कर रहे डॉक्टर ने उन्हें बाहर नहीं निकलने का सुझाव दिया। जिसके बाद अधिवक्ता साथी के सहयोग से मैंने पिता के शव अंतिम संस्कार कराया। लेकिन मेरी परिस्थितियों को जाने बगैर मीडिया में गलत खबर प्रकाशित की जा रही है। उन्होंने बताया कि मेरा पूरा परिवार अभी भी कोविड से जंग लड़ रहा है। इस बीच ऐसी खबरों ने मेरे मनोबल को तोड़ दिया है।