कोविड काल में कांग्रेस ने शुरू की मेडिकल हेल्पलाइन ‘हेलो डॉक्टर’

0
2

विशेष संवाददाता, नई दिल्ली
कोविड संक्रमण की मारामारी के इस दौर में मरीजों और उनके परिवारवालों की दिक्कतों को देखते हुए शनिवार को कांग्रेस ने दो हेल्पलाइन और हेल्प लिंक की शुरुआत की, जिससे कोरोना से संक्रमित लोगों की मदद हो सके। इसके तहत जहां ऑनलाइन डॉक्टरों से सलाह मशविरे के लिए ‘हेलो डॉक्टर’ नाम से मेडिकल हेल्पलाइन शुरू की गई। दूसरी ओर प्लाज्‍मा को लेकर कांग्रेस की ओर से एक लिंक का भी शुभारंभ किया गया, जहां से जरूरतमंद व्यक्ति या परिवार मदद ले सकता है।

शनिवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोशल मीडिया पर अपने ट्वीट में कांग्रेस द्वारा ‘हेलो डॉक्टर’ मेडिकल हेल्पलाइन की जानकारी दी। इसमें उन्होंने हेल्प लाइन की जरूरी नंबर 919983836838 देते हुए लिखा कि इस नंबर पर कोरोना को लेकर जो भी समस्या या सलाह लेना चाहते हैं, वो ले सकते हैं। इस मुश्किल दौर में राहुल ने डॉक्टरों व मेंटल हेल्थ प्रफेशनल्स से भी इस हेल्पलाइन लिंक से जुड़ने की अपील की, जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों की मदद हो सके। उनका कहना था कि आज के दौर में भारत को मिलकर साथ खड़े होने की जरूरत है, ताकि हम अपने लोगों की मदद कर सकें। इसमें डॉक्टर को दो रूपों से जुड़ने का विकल्प दिया गया है- एक में कोविड कंसलटेंट के तौर पर दूसरे में मेंटल हेल्थ कंसलटेंट के तौर पर वह खुद को एनरॉल करा सकते हैं।

यूथ कांग्रेस अध्‍यक्ष श्रीनिवास बी वी की अहम भूमिका
उल्लेखनीय है कि इस मुश्किल समय में लोगों को शारीरिक दिक्कतों, कोविड समस्याओं के साथ-साथ मानिसक रूप से भी कई तरह की दिक्कतों का सामना कर पड़ रहा है। इसे ध्यान में रखते हुए ही पार्टी ने यह पहल की है। वहीं, दूसरी ओर कांग्रेस ने प्लाज्‍मा हेल्प लिंक की शुरुआत की। इसके तहत जहां कांग्रेस देश के सभर राज्यों में जिले से लेकर बूथ लेवल तक के अपने वर्कर्स का डेटा इकठ्ठा कर रही है, जो हाल ही में कोविड से रिकवर हुए हैं। इसके अलावा, कांग्रेस ने आमजनों को भी इससे जुड़ने की अपील की है। इसके पीछे अहम भूमिका यूथ कांग्रेस व उसके अध्यक्ष श्रीनिवास बी वी की बताई जा रही है, जिन्होंने कोरोना काल में अपनी यूथ कांग्रेस के बल पर लोगों की मदद कर अपनी अलग पहचान बना ली।

तीन बार तक प्‍लाज्‍मा डोनेट कर सकते हैं लोग
इस लिंक के बारे में उनका कहना था कि प्लाज्मा डोनेट करने को लेकर लोगों में कहीं ना कहीं डर है। हमने शुरू तकरीबन 5,000 लोगों को आइडेंटिफाई किया। उसमें कई लोगों में डर था, ऐसे लोगों की हमने डॉक्टरों से काउंसलिंग कराकर उन्हें प्लाज्मा दान के लिए तैयार किया। एक आदमी कोविड नेगेटिव आने के 15 दिन के बाद से लेकर तीन महीने के अंदर कभी भी तीन बार प्लाज्मा डोनेट कर सकता हैं। इस समय इसकी काफी मांग है। इस लिंक के जरिए कांग्रेस अपने सेंट्रल कंट्रोल रूम में एक डेटाबेस तैयार करेगी, फिर उन्हें राज्यवार व जिलावार अलग-अलग राज्यों के साथ शेयर किया जाएगा। प्लाज्मा का मांग आने पर राज्यों के कंट्रोल रूम जिला कंट्रोल रूम की जरिए इन मांगों को पूरा करेंगे।