सरकारी हो या निजी सेक्‍टर… सबका इस्‍तेमाल करें, वैक्‍सीन की कमी दूर करने को पीएम मोदी का प्‍लान

0
3

नई दिल्‍ली
कोरोना वायरस मामलों के रेकॉर्ड आंकड़े सामने आने के बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को समीक्षा बैठक की। उन्‍होंने अधिकारियों से वैक्‍सीन का उत्‍पादन बढ़ाने की खातिर हरसंभव प्रयास करने को कहा। पीएम मोदी ने कहा कि वैक्‍सीन के लिए देश की पूरी क्षमता का इस्‍तेमाल किया जाए, फिर चाहे वह सरकारी हो या निजी।

शीर्ष अधिकारियों की मीटिंग महामारी से निपटने की तैयारियों पर चर्चा के लिए बुलाई गई थी। इसमें दवाओं, वेंटिलेटर्स, ऑक्सिजन और वैक्‍सीनेशन पर बात हुई। मोदी ने अधिकारियों से कहा कि उन राज्‍यों के साथ समन्‍वय बनाएं जहां कोविड के केसेज ज्‍यादा हैं। उन्‍होंने कोविड मरीजों के लिए अस्‍पतालों में बेड बढ़ाने के भी निर्देश दिए।

रेमडेसिवीर पर भी पीएम मोदी ने दिए निर्देशशनिवार को केंद्र की बड़ी फार्मा कंपनियों से बातचीत के बाद रेमडेसिवीर दवा के दाम कम किए गए हैं। पीएम ने कोविड मरीजों के इलाज में इस्‍तेमाल होने वाली दवा की उपलब्‍धता की समीक्षा की। मोदी ने कहा कि दवाओं की पर्याप्‍त उपलब्‍धता रहे, इसके लिए स्‍थानीय फार्मा इंडस्‍ट्री की पूरी क्षमता का इस्‍तेमाल किया जाए। सरकार ने एक बयान में कहा कि रेमडेसिवीर की सप्‍लाई 74 लाख वायल्‍स प्रतिमाह तक बढ़ा दी गई है।

मोदी ने अधिकारियों से कहा कि वे रियल-टाइम सप्‍लाई चेन मैनेजमेंट से जुड़े राज्‍यों के मसले जल्‍द से जल्‍द हल किए जाएं। उन्‍होंने फार्मा उत्‍पादों के दुरुपयोग और कालाबाजारी को रोकने के लिए कदम उठाने की बात भी कही।

जल्‍द ही राज्‍यों को ऑक्सिजन सप्‍लाई करेगा केंद्रबढ़ती डिमांड को देखते हुए पीएम ने अप्रूव्‍ड मेडिकल ऑक्सिजन प्‍लान्‍ट्स के इंस्‍टॉलेशन को तेज करने को कहा। अधिकारियों ने पीएम को जानकारी दी कि एक लाख सिलिंडर्स हासिल किए गए हैं जो जल्‍द राज्‍यों को सप्‍लाई किए जाएंगे। 30 अप्रैल तक सबसे ज्‍यादा मामलों वाले 12 राज्‍यों में सप्‍लाई का एक खाका भी तैयार किया गया है।

प्रधानमंत्री ने वेंटिलेटर्स की उपलब्‍धता और सप्‍लाई का स्‍टेटस भी जाना। पीएम ने कहा कि एक रियल-टाइम मॉनिटरिंग सिस्‍टम तैयार किया गया है। उन्‍होंने राज्‍य सरकारों को इस सिस्‍टम का सही से इस्‍तेमाल करने करने के लिए कहा। पीएम ने कहा कि लोगों की जान बचाने के लिए जल्‍द से जल्‍द टेस्टिंग और ठीक से ट्रैकिंग बहुत जरूरी है।