Covid-19: केंद्र ने छत्तीसगढ़, यूपी से आईसीयू बिस्तर, एम्बुलेंस की संख्या बढ़ाने को कहा

0
3

नई दिल्ली
केंद्र सरकार ने छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश को क्वॉरंटीन सेंटरों, ऑक्सीजन, आईसीयू बिस्तर और एम्बुलेंस की संख्या बढ़ाने के साथ कोविड-19 के मामलों का जल्द पता लगाकर मृत्यु दर में कमी लाने का सुझाव दिया है। केंद्र ने इन राज्यों से कोरोना के इलाज से जुड़े नैशनल प्रोटोकॉल का पालन करने की सलाह दी है।

केंद्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला ने केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण के साथ छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश में कोविड-19 की स्थिति की उच्चस्तरीय समीक्षा की और गैरजरूरी यात्रा नहीं करने सार्वजनिक जगहों पर भीड़भाड़ रोकने का सख्ती और प्रभावी ढंग से पालन करने पर जोर दिया।

दरअसल छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश के साथ महाराष्ट्र ऐसे राज्य हैं, जहां ऐक्टिव केस एक लाख से ज्यादा हैं। छत्तीसगढ़ और उत्तर प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण के प्रतिदिन काफी संख्या में नये मामले सामने आ रहे हैं और मौतें भी हो रही हैं। छत्तीसगढ़ में सात दिनों की गतिशील औसत के आधार पर साप्ताहिक नये मामले में तकरीबन 6.2 प्रतिशत वृद्धि हो रही है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के बयान के अनुसार, ‘पिछले दो सप्ताह में राज्य में साप्ताहिक नये मामलों में तकरीबन 131 फीसदी की वृद्धि देखने को मिली है। छत्तीसगढ़ में 22 जिलों ने पिछले 30 दिनों में सर्वाधिक मामलों की संख्या को पार कर लिया है। इनमें सबसे अधिक प्रभावित रायपुर, दुर्ग, राजनंदगांव और बिलासपुर सबसे अधिक प्रभावित हैं।’

इसमें कहा गया है कि 17-23 मार्च 2021 के सप्ताह की तुलना में 7-13 अप्रैल 2021 को समाप्त सप्ताह में आरटी-पीसीआर जांच घटकर 28 प्रतिशत (34 प्रतिशत से) रह गई जबकि एंटीजन जांच बढ़कर 62 प्रतिशत (53 प्रतिशत से) हो गई है।

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के प्रतिदिन नये मामलों की वृद्धि दर 19.25 प्रतिशत रिपोर्ट की गई है । उत्तर प्रदेश में पिछले 30 दिनों में 46 जिले कोरोना केस के मामले में अपने सर्वाधिक स्तर को पार कर गए हैं। इन जिलों में लखनऊ, कानपुर, बनारस और प्रयागराज सबसे अधिक प्रभावित जिले हैं।

इसमें कहा गया है कि 17-23 मार्च 2021 के सप्ताह की तुलना में 7-13 अप्रैल 2021 को समाप्त सप्ताह में आरटी-पीसीआर जांच घटकर 46 प्रतिशत (48 प्रतिशत से) रह गई है जबकि एंटीजन जांच बढ़कर 53 प्रतिशत (51 प्रतिशत से) हो गई है।

बैठक के दौरान अस्पतालों में आधारभूत ढांचे की कमी की खबरों पर भी चर्चा की गई जिसमें अस्पतालों में ऑक्सीजन युक्त बिस्तर, आईसीयू आदि शामिल हैं। इसके कारण स्वास्थ्य सेवाओं तक लोगों की पहुंच में परेशानी आ रही है।

राज्यों को क्वॉरंटीन सेंटरों, ऑक्सीजन, आईसीयू बिस्तर, एम्बुलेंस की संख्या बढ़ाने तथा कोविड-19 के मामलों का जल्द पता लगाकर मृत्यु दर में कमी लाने एवं राष्ट्रीय उपचार प्रोटोकाल का पालन करने का सुझाव दिया ।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि 10 लीटर और 45 लीटर के सिलिंडर सहित ऑक्सीजन सिलिंडर की राज्यों की मांग व अतिरिक्त वेंटीलेटर उपलब्ध कराने के उनके आग्रह को जल्द पूरा किया जाएगा।

केंद्र सरकार ने 12 राज्यों में कोविड-19 के दैनिक मामले बढ़ने के बीच ऑक्सीजन उत्पादन के स्रोतों का आकलन किया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने केंद्रीय मंत्रालयों और उनके पीएसयू को राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों में कोविड-19 प्रबंधन के लिए अपने अस्पताल के बेड समर्पित करने की सलाह दी। ऐसे समर्पित अस्पतालों/ब्लॉक का विवरण आम जनता को भी उपलब्ध कराया जायेगा।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के महानिदेशक बलराम भार्गव ने मोबाइल जांच लैब सहित अधिक संख्या में जांच लैब स्थापित करने का सुझाव दिया है। व्यापक समीक्षा के बाद कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी से वृद्धि से निपटने के लिये पांच सूत्री रणनीति बनाने पर जोर दिया गया। इसके तहत राज्यों से सभी जिलों में 70 प्रतिशत आरटी पीसीआर जांच करने तथा घनी आबादी वाले क्षेत्रों में छांटने के लिये रैपिड एंटीजन जांच करने को कहा है । इसके अलावा समय पर पता लगाने, कंटेन करने एवं निगरानी बढ़ाने तथा संक्रमण की श्रृंखला पर रोक लगाने के उपाय करने को कहा गया है।