लखनऊ के लिए फिर आगे आए मंत्री ब्रजेश पाठक, फंड से दिए 1 करोड़, DM को लिखी चिट्ठी वायरल

0
3

लखनऊ
उत्‍तर प्रदेश में कोरोना वायरस से हालात भयावह होते जा रहे हैं। पिछले 24 घंटे में यहां रेकॉर्ड 22439 नए केस सामने आए। इनमें से 114 मरीजों की मौत हो गई। राजधानी लखनऊ में स्थिति सबसे ज्‍यादा गंभीर है। दो दिन पहले योगी सरकार को पत्र लिखकर लखनऊ की स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं पर चिंता जताने वाले कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने गुरुवार को यहां के डीएम को एक चिट्ठी लिखी है। सोशल मीडिया पर वायरल इस खत में उन्‍होंने कोरोना मरीजों के लिए अपनी विधायक निधि से एक करोड़ रुपये देने की पेशकश की है।

मंत्री ब्रजेश पाठक ने कहा है कि इन पैसों से उनकी मध्‍य विधानसभा के सभी वॉर्डों में RTPCR टेस्ट करवाने के लिए केंद्र बनवाए जाएं। साथ ही वहां ऑक्‍सीजन और ऑक्‍सोमीटर की व्‍यवस्‍था भी की जाए। इसके अलावा जो लोग होम आइसोलेशन में हैं, उन्‍हें घर पर ही दवा उपलब्‍ध कराई जाए। पाठक ने अपने पत्र में लिखा है कि उनकी विधायक निधि के इस पैसे से वॉर्डों में सेनेटाइजेशन और भैसाकुंड श्‍मशान घर की साफ-सफाई भी कराई जाए। मंत्री ने लखनऊ के सभी बारात घरों और गेस्‍ट हाउसों को कोविड अस्‍पताल बनाए जाने की मांग की है ताकि कोरोना मरीजों के लिए बिस्‍तरों की कमी न हो सके।

योगेश प्रवीण के निधन को लेकर जताई थी शिकायत
इससे पहले अपर मुख्‍य सचिव (स्‍वास्‍थ्‍य) और प्रमुख सचिव (चिकित्‍सा शिक्षा) को लिखे पत्र में मंत्री ब्रजेश पाठक ने प्रसिद्ध इतिहासकार योगेश प्रवीण की मौत को लेकर स्‍वास्‍थ्‍य महकमे की शिकायत की थी। पाठक ने कहा था कि उन्‍होंने स्‍वयं सीएमओ को योगेश प्रवीण के घर एंबुलेंस भेजने के लिए फोन किया था। उनके अनुरोध के बाद भी काफी देर तक एंबुलेंस न मिल पाने की वजह से इतिहासकार का तेज बुखार से निधन हो गया। इसके अलावा लखनऊ में कोरोना जांच की रिपोर्ट मिलने में एक हफ्ते से ज्‍यादा समय लग रहा है।