घर से बाहर भी नहीं निकल सकते… महाराष्ट्र में 15 दिन के लिए सख्त गाइडलाइंस

0
5

मुंबई
का कहर बढ़ता ही जा रहा है। ऐसे में महाराष्ट्र सरकार ने मंगलवार को कोरोना की रोकथाम के लिए नए सख्त दिशानिर्देश जारी करने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री मंगलवार को रात साढ़े 8 बजे राज्य को संबोधित करते हुए प्रदेश में 15 दिनों तक धारा 144 का ऐलान किया है। उन्होंने कहा कि लोग घरों से अनावश्यक बाहर नहीं निकलेंगे। सिर्फ आवश्यक सेवाओं के लिए छूट रहेगी। परिवहन सेवाओं पर सीएम ने कोई रोक नहीं लगाई है। वहीं, राशनकार्ड धारकों के लिए सरकार की ओर से अनाज फ्री देने का भी ऐलान किया है। शिवभोजन एक महीने तक मुफ्त में देने का फैसला राज्य सरकार की ओर से किया गया है।

उद्धव ठाकरे बोले कि बीच में ऐसा लगा कि कोरोना से जंग जीत गए लेकिन महाराष्ट्र में फिर से कोरोना काबू से बाहर हो गया। महाराष्ट्र में हालात बेहद डरावने हैं। कोरोना के कारण प्रदेश बोर्ड की परीक्षा टाल दी गई है। ठाकरे ने कहा कि कोरोना खत्म होने के बाद ऐसी परीक्षाएं फिर से कराई जा सकती हैं। उन्होंने कहा कि आज अपने राज्य में रोज 1200 मीट्रिक टन ऑक्सिजन का उत्पादन होता है। इसमें से एक हजार मीट्रिक टन यानी कि 100 परसेंट ऑक्सिजन का इस्तेमाल कोरोना के लिए हो रहा है।

ठाकरे ने कहा कि हम मौत के आंकड़े छिपा नहीं रहे हैं बल्कि सारी जानकारी लोगों के सामने रख रहे हैं। इसलिए हमने पीएम से मांग की है कि जो स्थिति है, हमें और ज्यादा ऑक्सिजन की जरूरत पड़ सकती है। यहां की एजेंसी को इस बारे में बताया है और उन्होंने हमें ऑक्सिजन देना शुरू कर दिया है। हमको बाकी राज्यों से ऑक्सिजन लाने की इजाजत मिली है लेकिन उसे लाने में भी समय लगेगा।

ऑक्सिजन लाने के लिए एयरफोर्स की मदद
ठाकरे ने कहा कि हम प्रधानमंत्री से विनती कर रहे हैं कि हमें ऑक्सिजन की जरूरत है। अब मैं ये मांग भी करने वाला हूं कि सड़क के रास्ते से ऑक्सिजन तो आ ही रहा है, लेकिन अगर पॉसिबल है तो हवाई मार्ग से भी ऑक्सिजन आ सकता है। इसमें एयरफोर्स की मदद लेने के बारे में प्रधानमंत्री से मैंने पूछा है। ठाकरे ने कहा कि हमने पीएम से मांग की है कि प्रदेश में जीएसटी रिटर्न फाइल करने के लिए लघु उद्योगों के लिए तीन महीने की डेडलाइन बढ़ाई जाए।

पीएम से विनती है कि जिन लोगों को कोरोना की वजह से आर्थिक संकट हो रहा है, उन्हें भी कुछ मदद मिले। उन्होंने कहा कि पीएम ने कहा कि चार दिन टीका उत्सव करें। चार दिन क्या हमारे यहां वैक्सीनेशन की गति तेज है और इसे और ज्यादा बढ़ाने की जरूरत है।

कोरोना के केसेज तेजी से बढ़ रहे हैं। इसलिए स्वास्थ्य सेवाओं पर दबाव बढ़ रहा है। मुझे कहना है कि इस बार मरीजों की संख्या भयावह है। ऑक्सिजन और दवाओं की कमी पर हम काम कर रहे हैं। स्वास्थ्य सेवाएं बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं। ऑक्सिजन, वेंटिलेटर, आइसोलेशन बेड आदि की बढ़ोतरी पर हम काम कर रहे हैं। लेकिन इन सुविधाओं के लिए हमें डॉक्टर्स लगेंगे, उसके लिए हम कोशिश कर रहे हैं। जो अभी-अभी एमबीबीएस बने हैं, उनसे भी अपील है कि हमारी मदद करें। जो रिटायर हो चुके हैं, उनसे भी अपील है कि वे हमे जॉइन करे और हमारी मदद करें।

सभी दलों को मेरा आवाह्न है कि यह मौका नहीं है एक-दूसरे पर कीचड़ उछालने का। पीएम के साथ मीटिंग में भी मैंने ये कहा कि यह राजनीति का समय नहीं है। यह बड़ा संकट है और हम सबको साथ मिलकर लड़ना होगा। इसके बाद हम कुछ बंधन लगाने वाले हैं जो हम आपके लिए लगा रहे हैं। इससे हमको खुशी नहीं मिल रही है। हमने काफी समय चर्चा में लगाया। अब सख्त कदम उठाने का वक्त आ गया है।

मैं लॉकडाउन की बात नहीं कर रहा हूं लेकिन जो बंधन मैं लगा रहा हूं वह लॉकडाउन जैसा है। रोजी-रोटी जरूरी है लेकिन जान बचाना भी जरूरी है और यही हमारी प्राथमिकता है। आज तक जो नियम लगाए गए उनमें और बढ़ा रहा हूं। कल रात 8 बजे से यह नियम लागू होगा। सिर्फ पंढरपुर में थोड़ा बदलाव होगा, जहां चुनाव हो रहे हैं।

क्या हैं प्रतिबंध
बुधवार शाम से ‘ब्रेक द चेन’ के लिए राज्य में धारा 144 लागू रहेगी। अगले 15 दिनों तक सिर्फ जरूरी काम के लिए ही बाहर लोग निकल सकेंगे। हम यातायात के साध बंद नहीं करेंगे। जरूरी सेवाओं को छोड़कर सारी सेवाएं बंद रहेंगी। बैंक खुले रहेंगे। ई-कॉमर्स की सेवाएं खुली रहेंगी। पत्रकारों, सुरक्षा गार्ड्स और पेट्रोलपंप कर्मियों को छूट रहेगी।

सीएम ने बताया कि नए प्रतिबंधों के बाद प्रदेश में बैंक खुले रहेंगे। ई-कॉमर्स की सेवाएं खुली रहेंगी। पत्रकारों, सुरक्षा गार्ड्स और पेट्रोलपंप कर्मियों को छूट रहेगी। ये सभी नियम बुधवार की रात 8 बजे से लागू होंगे। ठाकरे ने कहा कि कुछ दिनों तक अनावश्यक लोगों का बाहर निकलना बंद करना है, इसलिए हम यह प्रतिबंध लगा रहे हैं। रेस्ट्रॉन्ट्स में बैठकर खाना खाने पर रोक रहेगी। सिर्फ होम डिलिवरी के लिए रेस्तरां खुले रहेंगे।

ठाकरे ने कहा कि तीन किलो गेहूं और एक किलो चावल अगले एक महीने तक 7 करोड़ लोगों को राज्य सरकार की ओर से दिया जाएगा। जिनके पास राशन कार्ड होगा वह सरकारी कोटे से इसे प्राप्त कर सकेंगे। अगले एक महीने में शिव भोजन थाली भी राज्य सरकार मुफ्त में देगी। ठाकरे ने कहा कि रोटी किसी की न रुके, उसके लिए हम यह व्यवस्था कर रहे हैं।

ठाकरे ने कहा कि 12 लाख कंस्ट्रक्शन कर्मचारियों को 1500 रुपये की आर्थिक मदद देने वाले हैं। अधिकृत फेरीवालों और परमिट धारक रिक्शाचालकों को भी 1500 रुपया आर्थिक मदद देने वाले हैं। सीएम ने कहा कि रजिस्टर्ड आदिवासी परिवारों में प्रति परिवार 2 हजार रुपये की मदद दी जाएगी। 3300 करोड़ अलग निकाले हैं, जो सभी जिलाधिकारियों को बांटे जाएंगे, ताकि वे अपने जिले में कोरोना से संबंधित आवश्यक प्रबंधन कर सकें।

लॉकडाउन की आशंका से दुकानों पर बढ़ी भीड़
सीएम के संबोधन की जानकारी सोशल मीडिया पर फैलने के बाद मुंबई में सब्जी की दुकानों और जनरल स्टोर्स पर सामानों की बिक्री में काफी तेजी देखी गई है। साढ़े 5 बजे के बाद से लोगों ने लॉकडाउन की आशंका को ध्यान में रखते हुए जरूरी सामानों की तेजी से खरीददारी शुरू कर दी। सड़कों पर वाहनों की आवाजाही बढ़ गई है। लोग खरीददारी के लिए अपने घरों से बाहर निकल रहे हैं। पुलिस भी काफी संख्या में सड़कों पर मौजूद हैं।

केस कम होते तो नहीं लगता लॉकडाउनः मंत्री
महाराष्ट्र सरकार के मंत्री असलम शेख ने कहा कि सीएम ठाकरे अज सख्त एसओपी लगाने को लेकर फैसला लेंगे। उन्होंने कहा कि हमें संक्रमण की कड़ी को तोड़ना है। अगर कोरोना मामलों की संख्या कम होती तो हम लॉकडाउन से बच सकते थे। सरकार लोगों की जिंदगी बचाने के लिए सर्वश्रेष्ठ कोशिश करेगी। असलम शेख ने कहा कि ऐसी मशहूर हस्तियां जो असिम्प्टोमैटिक हैं, उन्हें घर पर ही ट्रीटमेंट लेना चाहिए। अस्पताल में बेड पर कब्जा नहीं करना चाहिए। सचिन तेंडुलकर और अक्षय कुमार जैसे कुछ सेलिब्रिटीज को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं थी। अस्पतालों में बेड जरूरतमंदों के लिए छोड़ देना चाहिए।

अधिकारियों के साथ हो रही मीटिंग
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हेल्थ विभाग और जिले के अधिकारियों के साथ सीएम उद्धव ठाकरे की मीटिंग जारी है। बैठक में कोरोना की रोकथाम के लिए प्रदेश में किस तरह की पाबंदियां लगाई जाएं, इस पर चर्चा की जा रही है। इसमें अस्पतालों की स्थिति, ऑक्सिजन और रेमडेसिविर की उपलब्धता को लेकर भी बातचीत की जा रही है। माना जा रहा है कि प्रदेश में फिर से पूर्ण लॉकडाउन लगाया जा सकता है और अपने संबोधन में सीएम ठाकरे इसकी घोषणा करेंगे। रात 9 बजे कोरोना को लेकर नई गाइडलाइन्स जारी की जाएंगी।

इस बार लॉकडाउन होगा अलग
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, महाराष्ट्र सरकार पिछले बार के लॉकडाउन से सबक लेकर ही इस बार प्रतिबंधों को लागू करने की तैयारी में है। इसके तहत कुछ चीजों के लिए लॉकडाउन के दौरान भी छूट प्रदान की जाएगी। जैसे- जरूरी वजहों और सेवाओं के आनेजाने पर रोक नहीं होगी। एग्‍जाम के लिए छात्रों के आने-जाने पर भी रोक नहीं लगाई जाएगी। वैक्‍सीनेशन सेंटरों पर जाने की छूट दी जाएगी और जरूरी और इमरजेंसी सर्विस के लिए बस, ऑटो, टैक्‍सी सेवाओं पर रोक नहीं रहेगी। सबसे महत्वपूर्ण यह कि प्रवासी अगर अपने घर वापस लौटना चाहें तो उन्हें रोका नहीं जाएगा।

महाराष्ट्र की कोरोना रिपोर्ट
बता दें कि महाराष्ट्र में सोमवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 51,751 मामले सामने आए और महामारी से 258 लोगों की मौत हो गई। स्वास्थ्य विभाग द्वारा यह जानकारी दी गई। इससे एक दिन पहले राज्य में संक्रमण के 63,294 मामले सामने आए थे।