बिहार में 18 तक स्कूल बंद, 7 बजे के बाद दुकानों में ताला… पर लॉकडाउन नहीं लगेगा

0
3

पटना
बिहार के सभी स्कूल, कॉलेज और कोचिंग संस्थानों को 18 अप्रैल तक बंद करने का फैसला लिया गया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रशासनिक टीम को इसे सख्ती से लागू करने का आदेश दिया है। दुकानों को खोलने पर भी आंशिक पाबंदी लगाई गई है।

बिहार में क्या खुला रहेगा और क्या बंद…12 अप्रैल से शैक्षणिक संस्थान नहीं खुलेंगे। एक और सप्ताह तक के लिए बढ़ा दिया गया। नीतीश कुमार ने कहा कि फिलहाल बच्चे-बच्चियों को सेफ रखने के लिए स्कूलों को 18 अप्रैल तक बंद कराया गया है। 30 अप्रैल तक सभी दुकान और प्रतिष्ठान शाम 7 बजे तक ही खुलेंगे। हालांकि ये नियम रेस्तरां और होटल पर लागू नहीं होगा। सभी दुकान और प्रतिष्ठानों में मास्क लगाना जरूरी होगा। सैनिटाइजर भी जरूरी होगा। रेस्तरां, होटल और ढाबा क्षमता का 25% ही इस्तेमाल कर पाएंगे। सिनेमा हॉल में 50% सीटें ही इस्तेमाल होंगी। धार्मिक स्थल आम लोगों के लिए बंद रखे जाएंगे। सरकारी दफ्तरों में 33% की उपस्थिति होगी। प्राइवेट प्रतिष्ठानों को भी 33% के साथ दफ्तर खोलने की इजाजत है। शादी-विवाह में 200 जबकि श्राद्ध में 50 लोग शामिल हो सकते हैं।

बिहार में न तो कर्फ्यू और ना ही लॉकडाउननीतीश कुमार ने कहा कि ‘लॉकडाउन की चर्चा नहीं हुई है। नाइट कर्फ्यू को लेकर चर्चा की गई लेकिन इस पर आगे विचार किया जाएगा। फिलहाल जो निर्णय लिए गए हैं, इसका नतीजा देखते हुए आगे भी फैसले लिए जाएंगे। बिहार में फिलहाल 2020 वाली स्थिति नहीं है। 2020 में करीब 24 लाख लोग आए थे, जिनमें से 15 लाख लोगों को क्वारन्टीन किया गया था। फिलहाल वो स्थिति नहीं है, आगे नजर रखते हुए निर्णय लिए जाएंगे।’

‘बिहार में वैक्सीन की कोई कमी नहीं’
बिहार स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा कि बिहार में वैक्सीन की कोई कमी नहीं है। 11-14 अप्रैल तक टीकाकरण उत्सव मनाया जाएगा। चार दिनों में चार लाख लोगों को टीका देने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए वैक्सीन की जरूरत पड़ेगी तो केंद्र सरकार को चिट्ठी लिखी जा रही है। टेस्ट को लेकर प्रत्यय अमृत ने कहा कि 15 मार्च से 8 अप्रैल के बीच 68 प्रतिशत कोरोना की RT PCR जांच हुई है। वहीं, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि कोरोना के लेकर जल्द ही ऑल पार्टी मीटिंग का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि लोगों को सार्वजनिक स्थल पर कार्यक्रम को करने से बचना चाहिए।