शाह फैसल ने कश्मीर पर किया ‘देशभक्ति’ ट्वीट, लोग पूछने लगे सवाल

0
26

नई दिल्ली
पूर्व नौकरशाह और राजनेता रह चुके शाह फैसल कश्मीर को लेकर ट्वीट पर एक बार फिर चर्चा में हैं। शाह फैसल ने ट्वीट कर कहा कि मैं एक बार फिर से इस बात को दोहराता हूं कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। शाह फैसल के इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर लोग उनकी खिंचाई करने लगे। लोग शाह फैसल के पुराने ट्वीट का हवाला दे रहे थे।

फिल्मकार अशोक पंडित ने ट्वीट कर कहा कि मुझे लगता है कि आपको भूलने की बीमारी है। जरा थोड़ा सा पीछे जाइए और अपने इस्तीफे के बाद किए गए ट्वीट को देखिए। पंडित ने आगे लिखा कि मुझे पूरा यकीन है कि आपने ऐसा कुछ किया जिसने आपको बड़ी परेशानी में डाला था। अब खुद को बचाने के प्रयास में अचानक भारत की तारीफ कर रहे हैं।

मैं अपने पीएम पर भरोसा करता हूं
अशोक पंडित के इस ट्वीट पर शाह फैसल ने लिखा कि आप जितना गूगल पर भरोसा करते हैं उससे अधिक मैं अपने प्रधानमंत्री पर भरोसा करता हूं। वह मेरे, आपके और सब के बारे में अच्छी तरह से जानते हैं। एक अन्य यूजर @UnSubtleDesi ने कहा कि नहीं, आप हमेशा से भारत के समर्थक नहीं थे। अचानक से हुए इस हृदय परिवर्तन पर कोई भी यकीन नहीं करेगा। इस पर शाह फैसल ने जवाब देते हुए कहा कि मुझे यकीन है कि एक दिन आपकी राय बदलेगी।

आरएसएस के इकोसिस्टम का अभिन्न हिस्सा हैं फैसल
पत्रकार प्रशांत कनोजिया भी इस मामले में ट्वीट में लिखा कि मैं एक बार फिर से दोहराता हूं कि शाह फैसल आरएसएस के इकोसिस्टम का अभिन्न हिस्सा और कश्मीर में 21वीं सदी की कठपुतली हैं। इससे पहले शाह फैसल ने एक और ट्वीट में कहा था कि दोस्तो चलिए इसे एक बार सुलझा लेते हैं। मैं हमेशा से भारत समर्थक रहा हूं। मैं अपने रुख पर अड़ा हूं। यह एक लंबी कहानी और मैं इसे एक दिन सुनाउंगा।

किसान आंदोलन को लेकर किया था ट्वीट
शाह फैसल ने इससे पहले किसान आंदोलन को लेकर पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर के ट्वीट पर कमेंट को लेकर चर्चा में रहे थे। उस ट्वीट में फैसल ने लिखा था कि हां, घर की बात घर के अंदर ही अच्‍छी।’ यह पूरा मामला किसान आंदोलन को लेकर पॉप स्टार रिहाना के समर्थन वाले ट्वीट से चर्चा में रहा था।

जेल से छूटने के बाद साध ली थी चुप्पी
एक इंटरव्यू में फैसल ने कहा था कि कश्मीर में सियासत दो तरह से हो सकती है, या आप कठपुतली बन जाओ या फिर अलगाववादी। जम्मू कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम लागू किए जाने के खिलाफ वह कथित तौर पर इंटरनेशनल कोर्ट का सहारा लेने के लिए विदेश जा रहे थे। इस पर उन्हें दिल्ली एयरपोर्ट पर गिरफ्तार कर लिया गया। बीते साल तीन जून को रिहा होने के बाद उन्होंने इस पूरे मामले पर चुप्पी साध ली।

कश्मीरी युवाओं के लिए बन गए थे आइकॉन
शाह फैसल साल 2009 में यूपीएससी परीक्षा में टॉप करने करने के बाद कश्मीर में युवाओं के लिए आइकॉन बन गए थे। इसके बाद उन्होंने सियासत में एंट्री की। उसके बाद राजनीति से अलग होने के बाद सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करने पर जिहादी उनकी आलोचना करते हैं।