कोलकाता में PM की रैली में आ रहे सौरव गांगुली ? BJP बोली – हमारी तरफ से स्वागत है

0
31

कोलकातापश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों () पर पूरे देश की नजर है। पिछले दस सालों से बंगाल की सत्‍ता संभाल रहीं मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी को बीजेपी चुनौती दे पाएगी या एक बार फिर टीएमसी का परचम लहराएगा, हर कोई इस सवाल के जवाब के इंतजार में है। इस बीच, अटकलें लगाई जा रही हैं कि सात मार्च को पीएम नरेंद्र मोदी की कोलकाता रैली में पूर्व क्रिकेटर और बीसीसीआई के अध्‍यक्ष सौरव गांगुली शामिल होने आ सकते हैं।

कहा यह भी जा रहा है कि वह मोदी की उपस्थित में बीजेपी में शामिल हो जाएंगे। इन कयासों के बीच बुधवार को बीजेपी ने अपना रुख स्‍पष्‍ट कर दिया है। पार्टी के प्रवक्‍ता शामिक भट्टाचार्य का कहना है कि अगर सौरव गांगुली का स्‍वास्‍थ्‍य और कोलकाता का मौसम उन्‍हें पीएम की रैली में आने की इजाजत देता है तो हम उनका स्‍वागत करेंगे।

गांगुली की हुई थी
एंजियोप्‍लॉस्‍टी
गौरतलब है कि 48 साल के सौरव गांगुली को 31 जनवरी को अस्पताल से छुट्टी मिली थी। इससे पहले उनकी एक और एंजियोप्‍लॉस्‍टी की गई थी। सर्जरी के दौरान उन्हें दो और स्टेंट लगाए गए थे। जनवरी के शुरू में गांगुली को दिल का हल्का दौरा पड़ा था और हृदय से संबंधित ट्रिपल वेसेल डिजीज का पता चला था। उस वक्त एक धमनी में स्टेंट लगाया गया था। फिलहाल वह घर में आराम कर रहे हैं।

सौरव का नहीं आया कोई बयान बीजेपी प्रवक्‍ता भट्टाचार्य ने कहा- ‘हम जानते हैं कि सौरव फिलहाल आराम कर रहे हैं। अगर वह कार्यक्रम में आने की सोचते हैं और उनका स्वास्थ्य व मौसम अनुकूल रहता है तो उनका बहुत स्वागत है। अगर वह आते हैं तो हमें लगता है कि उन्हें यह पसंद आएगा। वहां मौजूद लोगों को भी अच्छा लगेगा। लेकिन इस बारे में (कार्यक्रम में शामिल होने के बारे में) हम नहीं जानते। यह फैसला उन्हें करना है।’ हालांकि इस मुद्दे पर बीसीसीआई प्रमुख सौरव गांगुली की ओर से कोई बयान नहीं आया है। ऐसी अटकलें हैं कि वह विधानसभा चुनाव से पहले बंगाल की राजनीति में शामिल हो जाएंगे।

गांगुली को सीएम फेस बनाना चाहती है बीजेपी!
पिछले कई महीनों से राजनीतिक गलियारों में यह भी चर्चा है कि बीजेपी सौरव गांगुली को पार्टी में शामिल कर उन्‍हें पश्चिम बंगाल में मुख्‍यमंत्री पद का चेहरा बनाना चाहती है। दरअसल, ममता बनर्जी की तुलना में बीजेपी के पास ऐसा कोई दमदार शख्सियत नहीं है जिसे वह आगे कर चुनाव में मजबूती से उतर सके। बीजेपी के तमाम बड़े नेताओं का कहना है कि चुनाव जीतने पर कोई बंगाली ही यहां का मुख्‍यमंत्री बनेगा, बाहरी नहीं। ऐसे में सौरव गांगुली के बीजेपी जॉइन करने के कयासों को बल मिल रहा है। हालांकि, बीजेपी और गांगुली दोनों इन अटकलों को गलत बताते आए हैं।