रेप के आरोप में मिली थी उम्रकैद की सजा, 20 साल बीतने के बाद कोर्ट ने पाया निर्दोष

0
31

आगरा
इलाहाबाद हाई कोर्ट ने रेप मामले में दोषी करार एक शख्स को 20 साल बाद बेगुनाह घोषित किया है। विष्णु तिवारी उस वक्त 23 साल का था जब ट्रायल कोर्ट ने उसे उम्रकैद की सजा सुनाई थी। उसे रेप मामले में दोषी करार दिया गया था। इन 20 सालों में उसके परिवार के हर सदस्य की मौत हो गई। आखिरकार अब विष्णु को जेल से रिहाई मिलेगी।

आगरा सेंट्रल जेल के वरिष्ठ अधीक्षक वीके सिंह ने बताया, ‘विष्णु को जल्द ही रिहा किया जाएगा। हम आधिकारिक रिहाई आदेश का इंतजार कर रहे हैं। यह दुर्भाग्यवश है कि जो अपराध उसने किया ही नहीं उसके लिए उसे 2 दशक जेल में रहना पड़ा।’

आईपीसी और SC/ST के तहत दर्ज हुआ था केस
मामला साल 2000 का है। विष्णु यूपी के ललितपुर गांव में अपने पिता और दो भाइयों के साथ रहता था। स्कूल छोड़ने के बाद वह परिवार की मदद के लिए नौकरी कर रहा था। उसी साल सितंबर में दूसरे गांव की एक महिला ने उसके खिलाफ रेप का आरोप लगाया था। विष्णु के खिलाफ अनुसूचित जनजाति की महिला के साथ रेप, धमकी और यौन शोषण के तहत मामला दर्ज हुआ।

पिता और भाइयों की मौत पर अंतिम संस्कार में नहीं जा सका
ट्रायल कोर्ट ने उसे दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई। 2003 में उसे आगरा सेंट्रल जेल में भेज दिया गया। 2005 में विष्णु ने मामले को हाई कोर्ट में चुनौती देने का मन मनाया लेकिन बात नहीं बनी। छह साल पहले उसके पिता की मृत्यु हो गई लेकिन परोल न मिलने की वजह से वह अंतिम संस्कार में नहीं जा सका। उसके बाद भाइयों की भी मौत हो गई।

सजा के 14 साल पूरे होने के बाद दाखिल की दया याचिका
14 साल पूरे होने पर विष्णु ने दया याचिका के लिए अपील का फैसला किया। जेल अधिकारियों ने स्टेट लीगल सर्विस अथॉरिटी से संपर्क किया और पिछले साल हाई कोर्ट में अपील दाखिल की। 28 जनवरी को जस्टिस कौशल जयेंद्र ठाकेर और गौतम चौधरी की पीठ ने उसे निर्दोष करार दिया।

कोर्ट ने बताया क्या था मामला
कोर्ट ने पाया कि मामले में एफआईआर तीन दिन बाद दर्ज हुई थी और महिला के प्राइवेट पार्ट पर कोई चोट के निशान नहीं थे जैसा कि दावा किया था। कोर्ट ने बताया कि दोनों परिवारों के बीच जमीन विवाद था और महिला के पति और ससुर ने शिकायत दर्ज कराई थी न कि महिला ने।

जेल से छूटने के बाद खोलेगा ढाबा
हाई कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए विष्णु को बरी कर दिया। जेल अधीक्षक ने बताया, ‘हम उम्मीद करते हैं कि कुछ ही दिन में वह जेल से बाहर आ जाएगा। इसके बाद उसका प्लान ढाबा खोलने और नई जिंदगी की शुरुआत करने का है।’