आतंक फैलाने के लिए विदेशों में रहने वाले कश्मीरियों को टारगेट कर रही है ISI.. आतंकी ने किया खुलासा

0
34

गोविंद चौहान, जम्मू
जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद फैलाने के लिए आईएसआई ने नया तरीका निकाला है। जानकारी के मुताबिक, विदेश में रहने वाले जम्मू-कश्मीर के नागरिकों को टारगेट किया जा रहा है, ताकि उन्हें आतंकवाद की घटनाओं या अन्य कामों में लगाया जा सके। जम्मू एयरपोर्ट पर गिरफ्तार हुए पुंछ के आतंकवादी ने यह खुलासा किया है। आतंकवादी ने बताया कि कुवैत में रहने के दौरान वह आईएसआई के संपर्क में आया था। उसे प्रदेश में आतंक फैलाने का काम दिया गया था, जिसके लिए उसे पैसे भी दिए गए थे।

जानकारी के अनुसार, पुंछ पुलिस ने आतंकियों के एक नेटवर्क को चलाने वाले सरगना को एयरपोर्ट से पिछले हफ्ते गिरफ्तार किया था। उसे पूछताछ के लिए पुंछ ले जाया गया। उसकी पहचान शेर अली निवासी मेंढर के रूप में हुई है। वह कुवैत से वापस आया था। वह किसी ठिकाने पर छिपने की फिराक में था, उससे पहले ही उसे गिरफ्तार कर लिया गया। आतंकी की पूछताछ के दौरान पता चला कि वह विदेश में रहकर अपने पाक हैंडलर सुल्तान के साथ मिलकर काम कर रहा था। आईएसआई के कहने पर वह इसके संर्पक में आया था।

वह आतंकियों को बालाकोट सेक्टर से घुसपैठ करवाता था। पिछले साल 24 नवंबर को उसने दो आतंकियों को इसी इलाके से घुसपैठ करवाई थी, जिसके बाद इन दोनों आतंकियों को 13 दिसंबर को सुरनकोट में मुठभेड़ में मार गिराया गया था। इसके अलावा सीमा पार से आए हथियारों के साथ उसके पिता तथा बहन को 11 सितंबर को गिरफ्तार किया गया था। पाकिस्तान से आए हथियारों को आतंकियों तक पहुंचाया जाना था।

पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला कि आईएसआई विदेशों में रह रहे जम्मू कश्मीर के लोगों से संर्पक बनाने का काम कर रही है। विशेष तौर पर जो सीमांत इलाकों के रहने वाले लोग हैं, उन्हें पैसे देकर उनसे काम ले रही है। कुवैत में रहते हुए उससे संर्पक किया गया। इस तरह से कई और लोगों से आईएसआई संर्पक कर चुकी है। पुलिस इस बारे में पूरी एक रिपोर्ट बना रही है, जिससे बाद में उसे एमएचए को दिया जा सके। ताकि आगे उसी हिसाब से कोई कड़ा कदम उठाया जा सके।