ड्रोन, कमांडो, खोजी कुत्ते… देखिए कैसे सुरंग में फंसी जिंदगियों को बचाने की चल रही हर कोशिश

0
19

उत्तराखंड के चमोली जिले में रविवार को भीषण त्रासदी के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन तीसरे दिन भी जारी है। भारतीय सेना, आईटीबीपी, एसडीआरएफ, एनडीआरएफ और भारतीय वायुसेना के अलावा नौसेना ने भी रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए मोर्चा संभाला है। चमोली में तपोवन के पास सुरंग (Tapovan Tunnel) में फंसे मजदूरों को निकालने का काम (Rescue Operation in Tapovan) जारी है। उत्तराखंड के DGP ने बताया कि अभीतक 29 शव बरामद किए जा चुके हैं। अभी कई लोगों के फंसे होने की आशंका है। उनकी तलाश के लिए हर संभव कोशिश की जा रही है।
उत्तराखंड के चमोली में ग्लैशियर फटने के बाद तीसरे दिन भी रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। आईटीबीटी की टीम के अलावा भारतीय सेना, भारतीय वायुसेना, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें भी राहत और बचाव कार्य में जुटी हैं। रेस्क्यू में ड्रोन की मदद भी ली जा रही है।
उत्तराखंड के चमोली जिले में रविवार को भीषण त्रासदी के बाद रेस्क्यू ऑपरेशन तीसरे दिन भी जारी है। भारतीय सेना, आईटीबीपी, एसडीआरएफ, एनडीआरएफ और भारतीय वायुसेना के अलावा नौसेना ने भी रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए मोर्चा संभाला है। चमोली में तपोवन के पास सुरंग (Tapovan Tunnel) में फंसे मजदूरों को निकालने का काम (Rescue Operation in Tapovan) जारी है। उत्तराखंड के DGP ने बताया कि अभीतक 29 शव बरामद किए जा चुके हैं। अभी कई लोगों के फंसे होने की आशंका है। उनकी तलाश के लिए हर संभव कोशिश की जा रही है।
बाढ़ का खतरा नहींकेंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने उत्तराखंड आपदा को लेकर संसद में मंगलवार को जानकारी दी। शाह ने कहा, ‘उत्तराखंड सरकार ने बताया है कि अब निचले इलाकों में बाढ़ का खतरा नहीं है और पानी का लेवल भी घट रहा है। ज्यादातार इलाकों में बिजली की आपूर्ति बहाल कर दी गई है। 5 क्षतिग्रस्त पुलों की मरम्मत भी शुरू कर दी गई है।’ शाह ने कहा कि आईटीबीपी के 450 जवान, एनडीआरएफ की 5 टीमें, भारतीय सेना की 8 टीमें, नेवी की एक टीम, भारतीय वायुसेना के 5 हेलिकॉप्टर रेस्क्यू ऑपरेशन में लगे हैं।
197 लोग लापताअमित शाह ने बताया कि ऋषिगंगा प्रॉजेक्ट में एक टनल से 15 लोगों को बचाया गया है। दूसरे टनल में 25-35 लोगों के फंसे होने का अनुमान है। उन्होंने बताया कि एनटीपीसी के 12 लोगों को बचाया गया है। राहत और बचाव के सभी काम राज्य सरकार के साथ समन्वय के साथ किए जा रहे हैं। आपदा के बाद से 197 लोग अभी भी लापता हैं।
एनटीपीसी के 93 कर्मचारी लापताकेंद्रीय मंत्री आरके सिंह ने बताया कि एनटीपीसी के 93 कर्मचारी लापता हैं। इनमें से 39 सुरंग में फंसे हैं। हम उन तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं। मंत्री ने कहा कि हम हिमस्खलन के खिलाफ एहतियाती उपायों के तहत एक अर्ली वॉर्निंग सिस्टम को तैयार करने के प्लान पर काम कर रहे हैं। इससे ऐसे हादसों पर रोक लगाने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि हादसे में मारे गए लोगों के परिजन को 20-20 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी।

#WATCH: Mi 17 chopper offloading relief equipment and personnel at Joshimath; Indian Air Force continues relief ope… https://t.co/36YwwRRJAy— ANI (@ANI) 1612854212000

ड्रोन की मदद से रेस्क्यूतपोवन में रेस्क्यू ऑपरेशन के लिए अब ड्रोन का इस्तेमाल किया जा रहा है। ड्रोन के जरिए तस्वीरें निकालकर अंदर के हालात का पता लगाने की कोशिश की जा रही है जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों को बताया जा रहा है। हैदराबाद की एक टीम के पास ऐसी रिमोट सेंसिंग डिवाइस है, जो जमीन में 500 मीटर तक गहरे मलबे का पता लगा सकता है। उत्तराखंड के डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि एक हेलिकॉप्टर की मदद से इस डिवाइस का इस्तेमाल रेस्क्यू ऑपरेशन में किया जा रहा है।
पुलों की मरम्मत जारीचमोली के जिलाधिकारी ने बताया कि हादसे में क्षतिग्रस्त पुलों की मरम्मत का काम जारी है जबकि जिपलाइन को पहले ही ठीक किया जा चुका है। इसका इस्तेमाल एसडीआरएफ कर्मी उन इलाकों में पहुंचने के लिए कर रहे हैं, जो हादसे के बाद पूरी तरह से कट गए थे। राशन की आपूर्ति की जा रही है और हेलिकॉप्टरों की मदद से आपातकालीन मामलों को तुरंत देखा जा रहा है। वहीं इस बीच आईटीबीपी की पहली बटालियन ने उत्तराखंड के जोशीमठ से 7 फरवरी को जिन 12 लोगों का रेस्क्यू किया था, उन्हें अब अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।

#WATCH I Uttarakhand: A joint team of ITBP, Army, NDRF and SDRF enters into the Tapovan tunnel to check the water l… https://t.co/AAIA6eVi8r— ANI (@ANI) 1612846881000

30 शव बरामदउत्तराखंड के डीजीपी ने बताया कि ऑपरेशन के दौरान 30 शव बरामद किए गए हैं। लापता लोगों की तलाश के लिए अभी सर्च ऑपरेशन जारी है। उन्होंने बताया कि हम नदी के तल और मलबे को खोजने की कोशिश कर रहे हैं। मंगलवार को तीन शव और बरामद किए गए हैं। ये शव रैनी गांव से बरामद किए गए, जिसमें पुलिसकर्मी का शव भी शामिल है।
सुरंग में फंसे मजदूरउत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बताया कि टनल में करीब 35 मजदूर फंसे हैं। उनके लिए ड्रिल करके टनल में रस्सी लगाने की कोशिश की जा रही है। इसकी सफलता में अभी थोड़ा समय लगेगा, लेकिन इसके लिए प्रयास किए जा रहे हैं।