उत्तराखंड में रेस्क्यू मिशन में तीनों सेनाओं ने झोंकी ताकत, स्टैंड बाय पर कई टीमें

0
20

नई दिल्ली
उत्तराखंड में आई प्राकृतिक आपदा में राहत और बचाव काम में भारतीय सेना, नेवी और एयरफोर्स भी जुटी हैं। एनडीआरएफ की टीम को एयरलिफ्ट कर वहां पहुंचाने से लेकर मेडिकल टीम भी घायलों की मदद में जुटी है। सुरक्षाबलों के जवान उत्तराखंड में लगातार मदद पहुंचाने में जुटे हैं।

जोशीमठ के पास रिंगी गांव में जोशीमठ से आर्मी के 2 कॉलम यानी करीब 200 जवान और दो कॉलम ऑली से तैनात किए गए हैं। 4 कॉलम यानी 400 जवान स्टैंडबाई में हैं। आर्मी की इंजीनियरिंग टास्क फोर्स भी तैनात है और 2 जेसीबी की मदद से टनल को खोदने का काम कर रही है जहां कई लोग फंसे हैं। आर्मी की मेडिकल टीम भी मौके पर है और दो एंबुलेंस में घायलों को लाया जा रहा है और इलाज मुहैया कराया जा रहा है।

आर्मी एविएशन के दो चीता हेलिकॉप्टर लगातार इलाके में रैकी कर रहे हैं और जरूरत के मुताबिक लोगों को एयरलिफ्ट कर रहे हैं। आर्मी ने जोशीमठ में एक कंट्रोल रूम भी स्थापित कर लिया है। इंडियन एयरफोर्स के C -130 एयरक्राफ्ट से एनडीआरएफ के 60 लोगों को 5 टन सामान को साथ हिंडन से जौलीग्रांट पहुंचाया गया। एक और C-130 और AN- 32 एयरक्राफ्ट हिंडन में तैयार है जो एनडीआरएफ के बाकी लोगों को भी राहत काम के लिए वहां पहुंचाएगा।

इंडियन एयरफोर्स के तीन Mi-17 जौलीग्रांट में तैनात हैं जो एनडीआरएफ की टीम को जोशीमठ पहुंचा रहे हैं। इंडियन नेवी के मार्कोज (MARCOS) की टीम भी तैयार है। नई दिल्ली में 16 मार्कोज और मुंबई में 40 मार्कोज तैयार हैं जो निर्देश मिलते ही वहां तैनात हो जाएंगे। आर्मी के फील्ड हॉस्पिटल पूरी तरह अलर्ट और तैयार हैं, जहां घायलों को भेजा जाएगा।