बजट की सराहना कर बोले पीएम मोदी- कोविड के बावजूद आम आदमी पर नया बोझ नहीं डाला गया

0
21

नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बजट को कोविड-19 महामारी के कारण पैदा हुई चुनौतियों के लिहाज से काफी सधा हुआ और बेहतरीन बताया। उन्होंने कहा कि इस बजट में आम आदमी पर नया बोझ नहीं डाला गया जैसा कि आशंका जताई जा रही थी। पीएम ने इसके लिए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और उनकी टीम को इसके लिए बधाई दी और कहा कि यह बजट भारत के उज्ज्वल भविष्य के लिए ठोस कदम रखने में मददगार साबित होगा।

बजट का साइज बढ़ाने पर रहा ध्यान: पीएम
प्रधानमंत्री ने कहा, “कोरोना के चलते कई एक्सपर्ट ये मानकर चल रहे थे कि सरकार आम नागरिकों पर बोझ बढ़ाएगी, लेकिन फिस्कल सस्टेनबिलिटी के प्रति अपने दायित्वों को ध्यान में रखते हुए सरकार ने बजट का साइज बढ़ाने पर जोर दिया।” उन्होंने कहा, “वर्ष 2021 का बजट असाधारण परिस्थितियों के बीच पेश किया गया है, इसमें यथार्थ का अहसास और विकास का विश्वास भी है। कोरोना ने दुनिया में जो प्रभाव पैदा किया उसने पूरी मानव जाति को हिला कर रख दिया। इन परिस्थितियों के बीच आज का बजट भारत के आत्मविश्वास को उजागर करने वाला है।”

पीएम ने बताया- बजट में क्या-क्या
मोदी ने बजट में आत्मनिर्भर भारत अभियान के लिए किए गए प्रावधानों की सराहना की। उन्होंने बजट के विभिन्न पहलुओं को समझाते हुए कहा, “आज के बजट में आत्मनिर्भरता का विजन भी है और हर वर्ग का समावेश भी है। हम इसमें जिन सिद्धांतों को लेकर चले हैं वो हैं- ग्रोथ के लिए नई संभावनाओं का विस्तार करना, युवाओं के लिए नए अवसरों का निर्माण करना, मानव संसाधन को एक नया आयाम देना, इन्फ्रास्ट्रक्चर निर्माण के लिए नए क्षेत्र विकसित करना, आधुनिकता की तरफ आगे बढ़ना, नए सुधार लाना है।”

“बजट को बाजार का समर्थन”
प्रधानमंत्री ने शेयर बाजार में आए जबर्दस्त उछाल के हवाले से कहा कि इस बजट को भरपूर समर्थन मिला है। उन्होंने कहा, “ऐसे बजट कम ही देखने को मिलते हैं जिसमें शुरू के एक-दो घंटों में ही इतने सकारात्मक रिस्पांस आए।” उन्होंने आगे कहा, “इस बजट में MSME और इन्फ्रास्ट्रक्चर पर विशेष जोर दिया गया है। ये बजट जिस तरह से हेल्थ केयर पर केंद्रित है वो भी अभूतपूर्व है। इस बजट में दक्षिण के हमारे राज्य,पूर्वोत्तर के हमारे राज्य और उत्तर में लेह-लद्दाख जैसे क्षेत्रों में विकास पर विशेष ध्यान दिया गया है।”

मोदी ने कहा, “देश में कृषि क्षेत्र को मजबूती देने के लिए, किसानों की आय बढ़ाने के लिए बहुत जोर दिया गया है। किसानों को आसानी से और ज्यादा ऋण मिल सकेगा। देश की मंडियों को और मजबूत करने के लिए प्रावधान किया गया है। ये सब निर्णय दिखाते हैं कि इस बजट के दिल में गांव हैं, हमारे किसान हैं।”