दिल्ली में चल रही थी बीटिंग रीट्रीट, इधर इजरायली दूतावास के बाहर हो गया धमाका

0
12

नई दिल्‍ली
देश की राजधानी दिल्‍ली में चल रहे बीटिंग रिट्रीट के बीच इजराइली दूतावास के बाहर शुक्रवार शाम आईईडी ब्लास्ट (#DelhiBlast) की खबर आई है। बताया जा रहा है कि कम तीव्रता के विस्‍फोट के चलते कुछ कारों के शीशे टूट गए हैं। किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। की स्पेशल सेल मौके पर पहुंचकर छानबीन कर रही है। बता दें कि आज भारत और इजरायल अपने राजनयिक संबंधों की 29वीं वर्षगांठ भी मना रहे हैं। भारत में इजराइल के दूतावास ने इसको लेकर ट्वीट भी किया है। इससे पहले वर्ष 2012 में इजराइली डिप्‍लोमैट की कार को दिल्‍ली में निशाना बनाया गया था।

दिल्‍ली पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि जब तक फायर ब्रिगेड की गाड़ी पहुंची, तब तक पुलिस ने पहले ही सारा एरिया कवर कर दिया था। फायर की गाड़ी को भी मौके तक नहीं जाने दिया। फायर कंट्रोल रूम को पौने 6 बजे कॉल मिली थी कि बम ब्लास्ट हुआ है औरंगजेब रोड पर। कॉल मिलते ही तुरंत कनॉट प्लेस स्थित फायर स्टेशन से तीन गाड़ियां मौके पर भेजी गईं।

सनसनी फैलाने के लिए किया ब्‍लॉस्‍ट!
यह धमाका इजराइली दूतावास से करीब 150 मीटर की दूरी पर हुआ है। दमकल विभाग की टीम भी मौके पर पहुंच गई है। दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी घटनास्थल पर मौजूद हैं। पूरे इलाके को सील कर दिया गया है। दिल्‍ली पुलिस के अतिरिक्‍त पीआरओ अनिल मित्‍तल ने बताया कि शुरुआती जांच से ऐसा लग रहा है किसी ने सनसनी फैलाने के लिए यह काम किया है।

कुछ ही किमी दूर चल रही बीटिंग रिट्रीट
दिल्‍ली के औरंगजेब मार्ग पर स्थित इजराइली दूतावास के बाहर धमाके की घटना ने दिल्‍ली पुलिस के माथे पर बल ला दिया है। यह ब्‍लॉस्‍ट ऐसे समय में हुआ जब इस इलाके से कुछ किलोमीटर दूर ही विजय पथ पर बीटिंग रिट्रीट सेरेमनी चल रही है जिसमें कई वीआईपी मौजूद हैं।

ईरान ने करवाया था इजराइली रायनयिक पर हमला!
गौरतलब है कि वर्ष 2012 में इजराइली दूतावास की इनोवा कार से इजराइली राजनयिक की पत्नी येहोशुआ कोरेन जा रही थीं। इसी दौरान औरंगजेब रोड पर धमाका हुआ था। धमाका इतना तेज था कि कार के बगल से गुजर रही टैक्सी और पीछे आ रही इंडिका कार के शीशे भी चकनाचूर हो गए। धमाके के तुरंत बाद कार में आग लग गई। लोगों ने तत्परता दिखाते हुए इजराइली महिला और चालक को कार से निकालकर अस्‍पताल में भर्ती कराया था। इजराइल ने इसके पीछे आतंकी संगठन हिजबुल्ला और ईरान का हाथ बताया था।