पहली बार राजपथ पर मार्च करेंगे बांग्लादेशी सेना के जवान, 1971 में मदद के लिए भारत को धन्यवाद

0
14

नई दिल्ली
कोरोना काल में हो रहे गणतंत्र दिवस समारोह की परेड ( Parade) में इस बार एक नया इतिहास लिखने जा रहा है। इस परेड में पहली बार बांग्लादेश के जवान (Bangladeshi Soldier) भी राजपथ पर मार्च करते नजर आएंगे। 26 जनवरी को बांग्लादेश के सशस्त्र बल के 122 जवान अपने भारतीय समकक्षों के साथ राजपथ पर मार्च करेंगे। बांग्लादेश के जवान न केवल पहली बार भारत के में भाग लेने पर गर्व महसूस करेंगे, बल्कि इसके जरिए वे भारत के उन जवानों के प्रति आभार भी व्यक्त कर रहे होंगे, जिन्होंने बांग्लादेश की मुक्ति के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी।

परेड की रिहर्सल के बाद हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में बांग्लादेश सेना के प्रमुख कर्नल मोहताशिम हैदर चौधरी ने कहा, “भारत के 72वें गणतंत्र दिवस परेड का हिस्सा बनना हमारे लिए बहुत बड़ा सम्मान है। परेड के अधिकांश कर्मी उन बांग्लादेश इकाइयों से हैं, जिन्होंने 1971 के लिबरेशन युद्ध के दौरान भाग लिया था। वास्तव में, हम ‘हमारे मित्र’ भारत की परेड का हिस्सा बनने के लिए बहुत भाग्यशाली हैं, ऐसा तब हो रहा है जब हमारा देश 2020-21 वर्ष को हमारे राष्ट्रपिता बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान की जन्म शताब्दी के रूप में मना रहा है। यह बांग्लादेश की स्वतंत्रता का 50वां वर्ष भी है।”

राजपथ पर परेड में शामिल होंगी बांग्लादेश की दो टुकड़ी
26 साल से सेना में कार्यरत अधिकारी कर्नल चौधरी ने कहा, “राजपथ पर परेड में बांग्लादेश की दो टुकड़ी शामिल होंगी, एक मार्चिंग टुकड़ी और एक सैन्य बैंड होगा। सैन्य टुकड़ी में तीन सेवाओं के कर्मी शामिल होंगे और इसका नेतृत्व फ्लाइट लेफ्टिनेंट, नेवी लेफ्टिनेंट, एक मेजर और 3 लेफ्टिनेंट कर्नल करेंगे।”

वर्ष 1971 के युद्ध में जीत की 50वीं सालगिरह
बता दें कि भारत इस साल को वर्ष 1971 के युद्ध (1971 war) में पाकिस्तान पर विजय की स्वर्ण जयंती के रूप में मना रहा है। वहीं पड़ोसी बांग्लादेश इस वर्ष को अपनी आजादी के 50वें साल के रूप में मना रहा है। दोनों देशों ने इस मौके को और यादगार बनाने के लिए राजपथ पर साथ मिलकर मार्च करने का फैसला किया था।