नेताजी की जंयती पर विरासत की लड़ाई, कल कोलकाता में कई कार्यक्रमों में शामिल होंगे पीएम मोदी

0
59

नई दिल्ली
23 जनवरी को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती के अवसर पर कोलकाता जाएंगे। पीएम वहां नेताजी की 125वीं जयंती के अवसर पर आयोजित पराक्रम दिवस समारोह को संबोधित करेंगे। पीएम मोदी नेताजी की याद में सिक्का और डाक टिकट भी जारी करेंगे।

पीएम मोदी ने नेताजी की जयंती पर अपने कोलकाता दौरे की जानकारी देते हुए ट्वीट किया, ‘पश्चिम बंगाल के भाइयों और बहनों, मैं पराक्रम दिवस के पवित्र अवसर पर आपके बीच रहकर सम्मानित महसूस करूंगा। कोलकाता के दौरे में वीर नेताजी सुभाषचंद्र बोस को हम श्रद्धांजलि देंगे।’ पीएम मोदी ने अंग्रेजी के अलावा बंगाली में भी ट्वीट कर अपने दौरे के बारे में जानकारी दी। इसे पश्चिम बंगाल के लोगों के साथ जुड़ने की पहले के तौर पर देखा जा रहा है।

पश्चिम बंगाल चुनाव के पहले नेताजी की जयंती के अवसर पर काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। चुनावों से पहले राज्य में नेताजी सुभाष चंद्र बोस को लेकर राजनीति काफी तेज है। टीएमसी नेता और राज्य की सीएम ममता बनर्जी ने हाल ही में नेताजी की जयंती को ‘देशनायक दिवस’ के रूप में मनाने का ऐलान किया था। वहीं कांग्रेस ने कहा है कि सत्ता में आने पर वह राज्य में नेताजी की सबसे ऊंची प्रतिमा बनवाएगी। कांग्रेस के पश्चिम बंगाल प्रभारी जितिन प्रसाद ने बीजेपी से सवाल किया कि उसने अपने 6 साल के शासन में सरदार पटेल की तरह नेताजी की कोई प्रतिमा क्यों नहीं बनवाई।

पीएम मोदी ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, ‘नेताजी सुभाष चंद्र बोस के विचार और आदर्श हमें गौरवान्वित, मजबूत, आत्मविश्वास से भरा और आत्म निर्भर भारत बनाने के लिए हमें प्रेरित करते रहें, यही मेरी कामना है। उनका मानवता पर केंद्रित नजरिया आने वाले समय में इस ग्रह को बेहतर बनाने में योगदान करता रहेगा।’

आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने हर साल नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया है। पीएम कोलकाता के विक्टोरिया मेमोरियल में आयोजित ‘पराक्रम दिवस के उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता करेंगे। इस अवसर पर पीएम एक स्थायी प्रदर्शनी और नेताजी पर एक प्रोजेक्शन मैपिंग शो का उद्घाटन करेंगे।

पीएम मोदी एक स्मृति सिक्का और डाक टिकट भी जारी करेंगे। नेताजी की थीम पर आधारित एक सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘आमरा नूतन जिबनेरी’ भी शनिवार को आयोजन किया गया है। इसके बाद पीएम का असम दौरा होगा, वहां वे शिवसागर जाएंगे, जहां पर 1.06 लाख जमीन के पट्टों का वितरण करेंगे। वर्तमान सरकार ने मई 2016 से लेकर अब तक लोगों को 2.28 लाख आवंटन प्रमाण पत्र वितरित किए हैं।

गौरतलब है कि खून के बदले आजादी देने का वादा करने वाले नेताजी सुभाष चंद्र बोस का नाम भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के इतिहास में सुनहरे अक्षरों में लिखा है। 23 जनवरी 1897 को उड़ीसा के कटक में एक संपन्न बांग्ला परिवार में जन्मे सुभाष अपने देश के लिए हर हाल में आजादी चाहते थे। उन्होंने अपना पूरा जीवन देश के नाम कर दिया और अंतिम सांस तक देश की आजादी के लिए संघर्ष करते रहे।