मार्च से बाजार में मिलने लगेगी कोरोना की देसी वैक्सीन, जानिए कितनी होगी कीमत

0
38

नई दिल्ली
देश में शनिवार से कोरोना के खिलाफ वैक्सीनेशन कार्यक्रम की शुरुआत हो रही है। शुरुआती चरण में फ्रंट वॉरियर्स पर यह वैक्सीन लगाई जाएगी। लेकिन मार्च से कोवैक्सिन (covaxin) मेडिकल स्टोर्स पर भी मिल सकती है। भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। सितंबर में सीरम इंस्टीट्यूट भी कोवीशील्ड (covishield) को बाजार में ला सकता है। माना जा रहा है कि इनकी कीमत 900 से 1000 रुपये के बीच होगी।

भारत बायोटेक कोवैक्सिन को 24 मार्च को बाजार में लाने की कोशिश में है। पिछले साल इसी दिन लॉकडाउन लगा था। भारत बायोटेक के नैशनल हेड शोएब मलिक के मुताबिक कोवैक्सिन फिलहाल सरकार को मुहैया कराई जा रही है। डिस्ट्रिब्यूटर्स से मीटिंग के बाद वैक्सीन की स्टोरेज सुविधाएं जांच की गई है। जल्द ही बाजार में वैक्सीन लाने की तारीख तय हो जाएगी। उन्होंने कहा कि वैक्सीन बाजार में लाने सरकार से मंजूरी की जरूरत नहीं है। हमारी पूरी तैयारी है, मार्च के अंत तक वैक्सीन बाजार में ले आएंगे।

बच्चों पर ट्रायलमलिक के मुताबिक, अभी जो दो वैक्सीन बनी हैं, वे 18 साल से ऊपर वालों के लिए हैं। कोवैक्सिन के बच्चों पर ट्रायल करने की अनुमति मिल गई है। 10 दिन में देशभर के 15 सेंटर्स पर बच्चों में इसका ट्रायल शुरू होगा। भारत बायोटेक इंजेक्शन वैक्सीन के अलावा नेजल स्प्रे पर भी काम कर रहा है। डॉक्टर्स कोशिश में हैं कि जिस रास्ते इंफेक्शन आता है, उसी रास्ते पर उसे खत्म किया जाए।

वहीं, सीरम इंस्टीट्यूट के रीजनल सेल्स मैनेजर अजय द्विवेदी ने बताया कि अभी जो भी प्रोडक्शन हो रहा है, उसका 50% देश में और बाकी विदेश भेज रहे हैं। कंपनी की वैक्सीन बाजार में लाने में अगस्त तक का समय लगेगा। सरकार ने वैक्सीनेशन के पहले चरण का खर्च खुद उठाने का फैसला किया है। इससे सरकारी खजाने पर अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। सरकार ने वैक्सीन की 1.1 करोड़ डोज का ऑर्डर दिया है जिसकी अनुमानित कीमत 220 करोड़ रुपये है। यह खर्च पीएम केयर्स फंड उठाएगा।

एक डोज पर कामदुनियाभर में कोरोना वैक्सीन के दो डोज लगाए जा रहे हैं। इसमें दूसरा डोज बूस्टर के तौर पर लगाया जा रहा है। मलिक बताते हैं कि भारत बायोटेक कोरोना के खात्मे के लिए सिंगल डोज पर भी काम कर रहा है। चमकी बुखार के लिए भी दुनियाभर में दो डोज लगते हैं, लेकिन सिर्फ भारत बायोटेक ने इसका एक डोज वाला वैक्सीन बनाया था।