वैक्सीन को लेकर जारी राजनीति पर भारत बायोटेक के एमडी का बड़ा बयान, कहा-‘किसी राजनीतिक दल से कोई नाता नहीं’

0
28

नई दिल्ली
भारत में दो वैक्सीन को मंजूरी मिलने के बाद इस पर राजनीति शुरू हो गई, विपक्षी दलों ने परीक्षण के चरण को लेकर वैक्सीन पर सवाल उठाए हैं। इस बीच भारत बायोटेक के एमडी कृष्णा एला ने सफाई दी है उन्होंने कहा, ‘कुछ लोगों द्वारा वैक्सीन का राजनीतिकरण किया जा रहा है, मैं यह स्पष्ट रूप से बताना चाहता हूं कि मेरे परिवार का कोई भी सदस्य किसी भी राजनीतिक दल से नहीं जुड़ा है। इसलिए इस पर राजनीति नहीं होना चाहिए।’

‘यह देश के लिए गर्व की बात’
एमडी कृष्णा एला ने कहा कि आपातकालीन उपयोग के लिए कोवैक्सीन की स्वीकृति मिलना देश के लिए गर्व की बता है। यह भारत के वैज्ञानिकों के लिए मील के पत्थर की तरह है। आने वाले समय में इससे देश में इनोवेशन को बढ़ावा मिलेगा।

200 फीसदी सुरक्षित होने का दावा
तमाम विवादों के बीच भारत बायोटेक के एमडी कृष्णा एल्ला ने कहा- ‘हमारी वैक्सीन 200 फीसदी सुरक्षित है, इसकी 50 लाख डोज कसौली में टेस्टिंग के लिए भेजी गई हैं।’ केवल 15 फीसदी ही साइड इफेक्ट के मामले सामने आए हैं। अभी तक सभी ट्रायल में बेहतर नतीजे सामने आए हैं। उन्होंने ट्वीट किया ‘कोवैक्सीनक की दो-खुराक लेना जरूरी है, फिलहाल सिर्फ हमारे पास ही 12 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए लिए टीका है। हम प्रोटोकॉल के अनुसार जल्द ही बच्चों पर परीक्षण करने की योजना बना रहे हैं।’

कई बड़े नेताओं ने उठाए थे सवाल
नए साल में कोरोना वैक्सीन को लेकर अच्छी खबरें मिली। हालांकि भारत बायोटेक की वैक्सीन (Covaxin) को सीमित इस्तेमाल की मंजूरी दिए जाने पर विवाद पैदा हो गया। कांग्रेस के कुछ नेताओं ने आरोप लगाया था कि वैक्सीन को जल्दबाजी में मंजूरी दी गई है। यह सभी के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। ने ट्वीट केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन से स्पष्ट करने को कहा था कि कोवैक्सीन का अभी तक चरण 3 परीक्षण पूरा नहीं हुआ है, यह कितनी सुरक्षित है।

बीजेपी ने किया था पलटवार
बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने विपक्षी पार्टियों पर हमला बोलते हुए कहा कि जब भी देश कुछ सफलता हासिल करता है, विपक्षी पार्टी उन उपलब्धियों का मजाक उड़ाने के लिए बेबुनियाद सिद्धांतों का सहारा लेती है। कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों को किसी भी भारतीय चीज पर गर्व नहीं है।