‘बातचीत विफल हुई तो अब यमुना एक्सप्रेसवे को जाम करेंगे किसान’

0
5

नोएडा
कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान () किसी भी कीमत पर झुकने को तैयार नहीं हैं। पंजाब और हरियाणा के किसानों के साथ ही उत्तर प्रदेश के किसान भी सड़कों पर डटे हुए हैं। आर-पार के मूड में आ चुके किसानों ने स्पष्ट कह दिया है कि रोज-रोज बैठक नहीं होगी। इस बीच किसानों ने नोएडा से आगरा की तरफ जाने वाले यमुना एक्सप्रेस-वे () को भी जाम करने का संकेत दे दिया है।

(टिकैत गुट) के नेताओं ने केंद्र सरकार के साथ वार्ता विफल होने की की सूरत में यमुना एक्सप्रेस-वे को जाम करने की बात कही है। टप्पल में एक कार्यक्रम में पहुंचे भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश टिकैत ने स्पष्ट कर दिया है कि जब तक भारत सरकार किसानों की बात को नहीं मान लेती है, तब तक किसान दिल्ली के बॉर्डर पर ही डटे रहेंगे। चाहे उन्हें कितना भी बड़ा आंदोलन करना पड़े।

राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजेश चौहान और राष्ट्रीय महासचिव अनिल तालान ने कहा, ‘आने वाले समय में किसानों और सरकार की वार्ता विफल होती है तो बीकेयू टिकैत गुट यमुना एक्सप्रेस-वे को जाम करेगा। अब किसान चुप बैठने वाला नहीं हैं। जल्द ही सभी किसान संगठन वार्ता कर कठोर फैसले लेंगे।’ भारतीय किसान यूनियन दिल्ली से सटे यूपी बॉर्डर पर धरना दे रही है।

बीकेयू नेताओं ने बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, ‘देश की सरकारें अन्नदाता को छलती आ रही हैं। वर्तमान सरकार ने तो देश में गृह युद्ध जैसी स्थिति बना दी है। बीजेपी की सरकार ने छह साल में किसानों का जितना अहित किया है, उतना कांग्रेस की सरकारें छह दशक में नहीं कर सकीं।’