शेहला रशीद के पिता का DGP को खत, ‘बेटी ऐंटी-नैशनल, 3 करोड़ रुपये लिए, मेरी जान को खतरा’

0
19

गोविंद चौहान, श्रीनगर
जम्मू-कश्मीर में सोमवार को जो मामला सामने आया उसके बाद राजनीतिक दलों में भी सरगर्मियां तेज हो गई हैं। दरअसल, जेएनयू की पूर्व छात्रा पर उसके पिता ने देशद्रोह और देश विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाया है। इसके लिए उन्होंने पुलिस महानिदेशक को एक पत्र लिखकर अपनी जान का खतरा होने की बात भी कही है। शेहला के पिता ने कहा कि उन्हें सुरक्षा दी जाए। इसके अलावा संबंधित पुलिस थाने को भी इसके बारे में सूचना दी ताकि उन्हें कोई नुकसान न पहुंचा सके। दूसरी तरफ शेहला ने पिता के आरोपों को बेबुनियाद बताया है।

अब्दुल रशीद शौरा ने सोमवार को शिकायत दर्ज कराते हुए कहा कि उन्हें अपनी ही बेटी से जान का खतरा है। अब्दुल रशीद ने बताया कि उनकी बेटी देश-विरोधी गतिविधियों में शामिल है। यही नहीं, उन्होंने यह भी कहा कि उनकी पत्नी जुबैदा शौर, बड़ी बेटी आसमा रशीद और एक पुलिसकर्मी साकिब अहमद भी उसके साथ है। उन्होंने कहा कि साकिब को पीएसओ बताया जाता है।

बयान जारी कर
शेहला ने
कहा…
शेहला ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि परिवार में ऐसा नहीं होता, जैसा मेरे पिता ने किया है। उन्होंने मेरे साथ-साथ मेरी मां और बहन पर भी बेबुनियाद आरोप लगाए हैं। शेहला ने ट्वीट करते हुए कहा कि वह पत्नी को पीटने वाला और एक अपमानजनक, नापाक आदमी है। हमने आखिरकार उनके खिलाफ कार्रवाई करने का फैसला किया है और यह स्टंट उसी का हिस्सा है। शेहला ने बयान जारी करते हुए कहा कि उन्हें 17 नवंबर से ही घर में आने से रोका हुआ है।

‘वटाली के घर पर बुलाया गया था’
शेहला के पिता अब्दुल रशीद ने दावा किया कि वर्ष 2017 में उनकी बेटी अचानक ही कश्मीर की राजनीति में आ गई थी। पहले वह नैशनल कॉन्फ्रेंस में शामिल हुई थी। उसके बाद जेकेपीएम में शामिल हुई थी। उन्होंने बताया कि टेरर फंडिंग मामले में पहले ही इंजिनियर रशीद और जुहूर वटाली गिरफ्तार हैं। इन नेताओं ने उनकी बेटी को नई पार्टी में शामिल होने के लिए तीन करोड़ रुपये के पैकेज की पेशकश की। अब्दुल रशीद ने बताया कि जून 2017 में इन दोनों नेताओं ने उसे वटाली के घर पर बुलाया था, जो कि श्रीनगर में है। वहां पर उसे कहा गया कि वे लोग नई पार्टी बनाने जा रहे हैं और उसमें उनकी बेटी को जोड़ा जाएगा।

‘जहां पैसे पहुंचाना था पहुंचा दिए गए’अब्दुल रशीद ने आरोप लगाया कि उस दिन उन्हें मौके पर तीन करोड़ रुपये देने की बात कही गई थी लेकिन उन्होंने मना कर दिया था। उसके बाद उनकी बेटी से संपर्क किया गया। उन्होंने कहा, ‘मैंने उस समय कहा था कि जो पैसे उसे (शेहला रशीद) दिए जा रहे हैं वह गलत रास्ते आए हैं। इनका इस्तेमाल भी गलत जगह पर हो रहा है।’ उन्होंने बताया कि इसके बाद उनकी बेटी इन नेताओं के साथ जुड़ गई थी। इतना ही नहीं, उनका कहना है कि जब उन्होंने अपनी बेटी को मना किया तो उनसे कहा गया कि वह इस मामले में चुप रहें। उन्हें बताया गया कि पैसे ले लिए गए हैं। इन पैसों को जहां पहुंचाना था वहां भेज दिए गए हैं। यह भी कहा गया कि आगे और भी पैसे आएंगे।

आईजी करेंगे पूरे मामले की जांच
शेहला के पिता ने आरोप लगाया कि इन सबके बाद उन्हें तंग किया जाने लगा। उनके घर पर कई लोगों का आना-जाना शुरू हो गया। जब उन्होंने इन सब चीजों के लिए मना किया तो उन्हें धमकियां दी जाने लगीं। अब्दुल रशीद का यह भी कहना है कि उन्हें घर से बाहर करने का भी पूरा प्रयास किया गया। अब उन्हें अपनी जान को खतरा लग रहा है। दरअसल, उनकी बेटी देशद्रोही लोगों के साथ जुड़ गई है। ऐसे में उन्हें जान से मारा जा सकता है। अब्दुल रशीद ने पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने अपनी सुरक्षा की मांग की है। पुलिस महानिदेशक ने आईजी कश्मीर को मामले की जांच करने को कहा है ताकि हकीकत बाहर लाई जा सके।