दिल्ली आए किसान तो कानून में संशोधन करेगी सरकार? कृषि मंत्री बोले- आंदोलन से समाधान नहीं

0
17

नई दिल्ली
नए कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब-हरियाणा के आंदोलनरत किसानों को दिल्‍ली आने की अनुमति मिल गई है। बुराड़ी मैदान पर किसान अपना विरोध जारी रख सकेंगे। इससे पहले, दिल्‍ली पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को रखने के लिए नौ स्‍टेडियमों को अस्‍थायी जेल बनाने की इजाजत मांगी थी। अब सरकार ने भी बातचीत का रास्ता खोल दिया है। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने इसकी घोषणा की है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि बातचीत से चीजें हल हो सकती हैं, आंदोलन से समाधान नहीं होगा।

केंद्रीय मंत्री ने दिया न्योताकेंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि आंदोलन से कोई रास्ता नहीं निकलेगा। केंद्र सरकार किसानों से बातचीत करने को हमेशा तैयार थी, है और रहेगी। उन्होंने कहा कि इससे पहले भी 2 चरणों में अपने स्तर पर, सचिव स्तर पर किसानों से वार्ता हो चुकी है। अब 3 दिसंबर को बातचीत के लिए किसान यूनियन को हमने आमंत्रण भेजा है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार किसानों से चर्चा के लिए तैयार थी, तैयार है और तैयार रहेगी।

बड़ा हो गया आंदोलनदो दिनों से कर रहे थे और वे दिल्ली में जाकर अपना प्रदर्शन करता चाहते थे मगर उनको इजाजत नहीं दी गई थी। उसके बाद शुक्रवार को सरकार ने दिल्ली के बुराड़ी इलाके में किसानों को प्रदर्शन करने की इजाजत दे दी। जिसके बाद से सभी बॉर्डर से किसानों को जाने की छूट मिल गई है। दिल्ली सरकार के अधिकारी निरंकारी समागम मैदान बुराड़ी में किसानों के लिए व्यवस्था की समीक्षा करने के लिए पहुंचे। आप विधायक राघव चड्ढा ने कहा कि हम किसानों के लिए पानी के टैंकरों की तैनाती के लिए आए हैं। AAP सरकार किसानों के साथ खड़ी है। अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली सरकार उनकी देखभाल करेगी। उधर, दिल्ली मेट्रो की सेवाएं बहाल कर दी गई हैं।

बैरिकेडिंग हटाई गईहरियाणा-पंजाब सीमा स्थित शंभू बॉर्डर से बैरिकेटिंग हटा दी गई है। अंबाला एसपी राजेश कालिया ने कहा कि किसी भी रोका नहीं जाएगा। किसान आराम से दिल्ली जा सकते हैं और बॉर्डर से बैरिकेटिंग हटा दी गई हैं। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने किसानों से अपील की है कि मेरी सभी किसान भाइयों से अपील है कि अपने सभी जायज मुद्दों के लिए केंद्र से सीधे बातचीत करें। आन्दोलन इसका जरिया नहीं है- इसका हल बातचीत से ही निकलेगा।

दिल्ली कूच की अनुमतिदिल्ली कूच को आमादा किसान अब दिल्ली के बुराड़ी मैदान पर अपना विरोध कर रहे हैं। दिल्ली कूच की वजह से दिल्ली में यातायात समस्या विकराल होती जा रही है। दिल्ली-गुरुग्राम सीमा पर वाहनों की सघन चेकिंग हो रही है। जिसकी वजह से दिल्ली-गुरुग्राम का ट्रैफिक बहुत धीमा चल रहा है। नए कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब-हरियाणा के आंदोलनरत किसानों को दिल्‍ली आने की अनुमति मिल गई है। बुराड़ी मैदान पर किसान अपना विरोध जारी रख सकेंगे।

इससे पहले, दिल्‍ली पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को रखने के लिए नौ स्‍टेडियमों को अस्‍थायी जेल बनाने की इजाजत मांगी थी। हालांकि AAP सरकार ने किसानों को अहिंसक आंदोलन (Kisan Andolan) का हक है, यह कहते हुए मंजूरी देने से मना कर दिया। शनिवार दोपहर तक कई जगहों पर किसानों को रोका गया। न मानने पर पानी की बौछारें और आंसू गैस के गोले भी छोड़े गए थे।