‘जो बोले सो निहाल के नारे’ और चेहरे पर उम्मीद…परमिशन मिलने के बाद हरियाणा-यूपी से दिल्ली पहुंचे हजारों किसान

0
6

चंडीगढ़/नई दिल्ली
हरियाणा सीमा पर चले लंबे संघर्ष के बाद अब पंजाब से चले किसानों को दिल्ली आने की इजाजत दे दी गई है। इसके अलावा यूपी में ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस वे पर प्रदर्शन कर रहे किसानों को भी दिल्ली आने के लिए अनुमति मिली है। इसके बाद दिल्ली से लगने वाली अलग-अलग सीमाओं से हजारों किसान अब राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में प्रवेश कर रहे हैं। केंद्र सरकार ने कहा है कि वह किसानों से बात करने को तैयार है और किसान संगठन कोरोना काल के बीच अपने प्रदर्शन को फिलहाल खत्म कर दें।

किसानों को दिल्ली में प्रवेश की इजाजत मिलने के बाद हरियाणा के अंबाला और यूपी-दिल्ली की सीमा पर लगे बैरिकेड्स को हटा दिया गया है। पंजाब सरकार के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस फैसले का स्वागत करते हुए केंद्र सरकार को धन्यवाद दिया है। पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘मैं केंद्र सरकार की ओर से किसानों को दिल्ली में प्रवेश की इजाजत देने का स्वागत करता हूं। सरकार को तत्काल किसानों से बातचीत शुरू करना चाहिए, जिससे कि कृषि विधेयकों पर जो भी विवाद हों उनका हल निकाला जा सके।’

किसानों से प्रदर्शन खत्म करने की अपील
किसानों को दिल्ली प्रवेश की इजाजत देने के बाद केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा,’सरकार सभी मुद्दों पर किसानों से बात करने को तैयार है। हम लोगों ने 3 दिसंबर को एक बार फिर किसानों को बातचीत के लिए बुलाया है। हमारी अपील है कि किसान कोरोना काल और ठंड के मौसम को देखते हुए विरोध प्रदर्शन को खत्म कर दें।’

बुराड़ी के निरंकारी समागम स्थल पर प्रदर्शन की इजाजत
हरियाणा के रास्ते दिल्ली में प्रदर्शन के लिए पहुंचे किसानों को बुराड़ी के निरंकारी समागम स्थल पर प्रदर्शन की इजाजत दी गई है। ये किसान टिकरी सीमा से दिल्ली में दाखिल हो रहे हैं। किसानों को दिल्ली में दाखिल कराने से पहले यहां सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम कराए गए हैं। गृह मंत्रालय की ओर से करीब 35 से 40 हजार किसानों के बुराड़ी के रास्ते दिल्ली में प्रवेश का अनुमान लगाया गया है। इसके लिए यहां सभी प्रबंध कराए गए हैं।

गुड़गांव के रास्ते पर दिखी जाम की स्थितियां
हरियाणा और यूपी के रास्ते दिल्ली आ रहे किसानों के हुजूम के कारण तमाम रास्तों पर ट्रैफिक डायवर्ट किया गया है। इसके अलावा किसानों के प्रदर्शन के बीच शुक्रवार को गुड़गांव और मेरठ से सटे हाइवे पर काफी देर तक जाम की स्थितियां देखने को मिल चुकी हैं।