RSS के किसान संगठन BMS ने कहा- किसानों की चिंता जायज, जल्द मांगें पूरी करे सरकार

0
4

नई दिल्लीराष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के किसान संगठन ने कहा कि केंद्र सरकार को जल्द से जल्द किसानों की मांगें पूरी करनी चाहिए। अगर सरकार ने जल्द कोई कदम नहीं उठाया तो राजनीतिक दल किसानों का इस्तेमाल कर लेंगे। भारतीय किसान संघ के अखिल भारतीय ऑर्गनाइजिंग सेक्रेटरी दिनेश कुलकर्णी ने एनबीटी से बात करते हुए कहा कि हम 3 दिसंबर को बातचीत का इंतजार कर रहे हैं। सरकार ने सभी किसान संगठनों को बातचीत के लिए बुलाया है। अगर तब उससे कुछ नहीं निकला तो भारतीय किसान संघ भी आंदोलन करेगा।

किसानों को मिले एमएसपी की गारंटी
दिनेश कुलकर्णी ने कहा कि हमारी आंदोलन की तैयारी चल रही है और हम भी सड़कों पर उतर सकते हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय किसान संघ अपनी तीनों मांगों पर कायम है। खरीद को एमएसपी के साथ जोड़ा जाए, ट्रेडर्स का रजिस्ट्रेशन होना चाहिए साथ ही एग्रीकल्चर कोर्ट बननी चाहिए। मौजूदा किसान आंदोलन के बारे में भारतीय किसान संघ के नेता ने कहा कि यह आंदोलन हमें पॉलिटिकली मोटिवेटेड लगता है। इसलिए हम इसमें अभी शामिल नहीं है। हम वेट एंड वॉच की स्थिति में हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब और राजस्थान ने जो कानून पारित किए हैं उसमें भी किसानों को कोई राहत नहीं दी है। यह किसानों के साथ सीधे-सीधे धोखा है। पंजाब ने एमएसपी की कंडीशन सिर्फ गेहूं और धान के लिए डाली है, क्या पंजाब में सिर्फ गेहूं और धान होता है? राजस्थान में तो गहलोत सरकार ने एमएसपी की गारंटी बस कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग में दी है। यह किसानों को मूर्ख बनाने की कोशिश है। ये बस राजनीति कर रहे हैं इसलिए हम इससे दूर हैं।

सरकार जल्द उठाए कदम
यह पूछने पर कि किसान भी तो सड़कों पर है, भारतीय किसान संघ नेता ने कहा किसानों का दर्द वास्तविक है इसलिए हम सरकार से मांग कर रहे हैं कि जल्द से जल्द कदम उठाया जाए। सरकार ने कानून तो बना दिया लेकिन किसानों को एमएसपी की गारंटी नहीं मिल रही है। अगर सरकार जल्दी नहीं करेगी तो राजनीतिक लोग किसानों का इस्तेमाल कर लेंगे क्योंकि किसानों का दर्द है। इसलिए जल्द से जल्द पहल करनी चाहिए। राजनीतिक मुद्दा बन जाने पर उससे कुछ नहीं निकल पाता। कुलकर्णी ने कहा कि लोगों के मन में आशंकाएं हैं जिन्हें नकारा नहीं जा सकता। किसानों को दिल्ली आने से रोकने और बॉर्डर पर वॉटर कैनन- आंसू गैस इस्तेमाल करने पर भारतीय किसान संघ नेता ने कहा कि सरकारों का ऐसा करना सही नहीं है। सरकार को किसानों को समझाना चाहिए। उन लोगों को भी देखना चाहिए जो किसानों को भड़का रहे हैं। दोनों तरफ से गलतियां हो रही हैं और बीच में किसान पिस रहा है।