किसानों पर वॉटर कैनन और आंसू गैस के गोले… अकाली दल बोला- ये पंजाब का 26/11 है

0
32

चंडीगढ़
हरियाणा के रास्ते पंजाब से दिल्ली जा रहे किसानों पर बल प्रयोग होने की घटना को लेकर शिरोमणि अकाली दल ने बीजेपी पर निशाना साधा है। अकाली दल ने इस कार्रवाई की तुलना 2008 के मुंबई हमले से की है। अकाली दल ने कहा है कि ये घटना पंजाब के 26/11 जैसी है। वहीं पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार में मंत्री रहीं अकाली नेता हरसिमरत कौर बादल ने हरियाणा सरकार की कार्रवाई को लोकतंत्र की हत्या बताया।

सुखबीर सिंह बादल ने किसानों पर हुई कार्रवाई का विरोध करते हुए अपने ट्वीट में कहा, ‘आज पंजाब के 26/11 का दिन है। हम लोकतांत्रिक तरीके से प्रदर्शन के अधिकार का अंत होते देख रहे हैं। हरियाणा और केंद्र सरकार की ओर से किसानों के शांतिपूर्ण प्रदर्शन को दबाने के इस प्रयास का अकाली दल विरोध करता है।’ एक अन्य ट्वीट में अकाली दल नेता ने कहा कि पंजाब के किसानों के प्रदर्शन को वॉटर कैनन का इस्तेमाल कर नहीं दबाया जा सकेगा। इससे हमारा संकल्प और मजबूत होगा।’

हरसिमरत कौर बोलीं- ये लोकतंत्र की हत्या
किसान बिल की खिलाफत करते हुए केंद्र के मंत्री पद से इस्तीफा देने वाली हरसिमरत कौर ने कहा, ‘संविधान दिवस पर ये लोकतंत्र की हत्या जैसा है। किसानों की आवाज दबाने की कोशिश की गई और अन्नदाताओं के खिलाफ वॉटर कैनन का इस्तेमाल किया गया। मैं पीएम मोदी से अपील करती हूं कि वो हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर को निर्देश दें कि वो किसानों को आसानी से दिल्ली जानें दें। हम सब इन किसानों के साथ हैं।’

पंजाब में तो उग्र नहीं हुए किसान: कैप्टन
दिल्ली जा रहे किसानों को हरियाणा में रोके जाने पर पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने भी हरियाणा सरकार पर सवाल उठाए। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अपने ट्वीट में कहा कि पंजाब में दो महीने से शांतिपूर्ण तरीके से किसानों का शांतिपूर्ण प्रदर्शन चल रहा था। हरियाणा की सरकार आखिर पुलिस बल का प्रयोग करके इन किसानों को क्यों भड़का रही है? क्या किसानों के पास एक पब्लिक हाइवे से शांतिपूर्ण तरीके से कहीं जाने का अधिकार भी नहीं है?