उद्धव सरकार की सख्ती, इन राज्यों से जा रहे हैं मुंबई तो रखना होगा कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट

0
53

मुंबई () ने मुंबई आने की इच्छा रखने वाले तमाम लोगों के लिए कुछ शर्तें तय किए हैं। इनके अनुसार दिल्ली-एनसीआर गोवा गुजरात और राजस्थान से आने वाले सड़क मार्ग के यात्रियों को 96 घंटे पहले आरटी पीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट (government made RT PCR test mandatory for pax coming to mumbai by flight ) लानी होगी। दूसरे राज्यों से रोड के जरिए आने वाले लोगों की तापमान की जांच की जाएगी। फ्लाइट में बिना टेस्ट जाने पर पाबंदी लगाई गई।

हवाई यात्रा पर ज्यादा सख्ती
महाराष्ट्र सरकार ने फ्लाइट से आने वाले तमाम यात्रियों के लिए बेहद कड़े नियम बनाए हैं इनके अनुसार यदि आप हवाई जहाज से यात्रा कर मुंबई मे लैंड हो रहे हैं तो आपके पास 72 घंटे पहले की आरटी पीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट होना अनिवार्य है। बिना इस रिपोर्ट के आपको आने और जाने की इजाजत नहीं होगी। जबकि रेल यात्रियों के पास अगर यह रिपोर्ट नहीं है तो उनकी स्क्रीनिंग की जाएगी और उनके तापमान की जांच की जाएगी।

अपने खर्च पर करवाना होगा टेस्ट
सरकार के आदेश के मुताबिक अगर किसी के पास यह रिपोर्ट यात्रा के पहले मौजूद नहीं हैं तो उन्हें अपने खर्च पर इस टेस्ट को अनिवार्य रूप से करवाना होगा। टेस्टिंग के बाद ही जाने की अनुमति होगी यदि कोई पॉजिटिव पाया गया तो उनका इलाज किया जाएगा। महाराष्ट्र के ने हाल ही में कहा था कि सरकार कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार कुछ कड़े फैसले ले सकती है।

दिल्ली और गुजरात से आवागमन पर नज़र
आने वाले समय मे सरकार कुछ और भी फैसले ले सकती है। कैबिनेट मंत्री विजय वडेट्टीवार ने सोमवार को बताया कि हम अगले 8 दिनों तक दिल्ली और गुजरात से आने जाने वाली ट्रेन और हवाई सेवा पर नजर रखेंगे। और उसके बाद इन दोनों जगहों के साथ यातायात को शुरू रखना है या फिर बंद करना है इस पर फैसला लिया जाएगा। यह फैसला 30 नवंबर के पहले लिए जाने की उम्मीद जताई जा रही है। फिलहाल राज्य में मौजूदा लॉकडाउन की नियमावली लागू है। वडेट्टीवार ने कहा कि अगर गुजरात ने लॉकडउन घोषित किया है। तब वहां के नागरिक ना तो राज्य के बाहर जा सकते हैं और ना ही बाहर से कोई नागरिक राज्य में अंदर जा सकता है। फिलहाल बीते सप्ताह केंद्र के साथ एक उच्च स्तरीय मीटिंग में गुजरात समेत तीन राज्यों ने हिस्सा लिया था।

सुप्रीम कोर्ट ने लिया संज्ञान
सर्वोच्च न्यायालय ने भी आज इस मामले की 4 राज्यों की स्टेटस रिपोर्ट को जाना। जिसमें दिल्ली, गुजरात और महाराष्ट्र भी शामिल है। रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र है कि दिसंबर का महीना कोरोना के लिहाज से काफी मुश्किलों भरा हो सकता है। लिहाजा राज्यों को पहले से ही तैयार रहना होगा। दिल्ली में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। रविवार को दिल्ली में 6746 मामले पाए गए हैं। जबकि महाराष्ट्र में 5753 मामले पाए गए हैं।