कोरोना दोबारा हो सकता है, यह पक्की बात, जारी रखें प्रिकॉशन: डॉक्टर पॉल

0
21

नई दिल्ली
कोरोना दोबोरा हो सकता है, यह पक्की बात है। यह कहना है कि वी के पॉल का। शनिवार को डॉक्टर पॉल ने कहा कि कुछ लोगों में ही सही, लेकिन कोरोना दोबारा हो सकता है, ऐसा देखा जा रहा है। इसलिए, प्रिकॉशन जारी रखें। उन्होंने कहा कि जो हालात हैं, उसके अनुसार अभी भी देश की 80 पर्सेंट आबादी को संक्रमण का खतरा है। यह जरूर है कि वैक्सीन आने वाली है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम लापरवाह रहें। वैक्सीन केवल एक टूल है, हमें कोविड बिहेवियर और गाइडलाइन का पालन करते रहना चाहिए।

डॉक्टर पॉल ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि अभी दिल्ली में पीक चल रहा है। इसलिए व्यक्तिगत स्तर पर लोगों को समझना होगा। हमें ट्रैकिंग और आइसोलेशन को मानना होगा। अभी सबसे ज्यादा जरूरी है कि एक संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में लगभग उन 15 से 20 कांटैक्ट को आइसोलेट करें, क्योंकि वो अनजान बने रहेंगे और उनसे संक्रमण फैलता रहेगा।

‘2 दिन पहले से संपर्क में आए सभी की पहचान और आइसोलेशन जरूरी’
डॉक्टर पॉल ने कहा कि जिस किसी में पॉजिटिव आए, उसके दो दिन पहले से संपर्क में आए सभी की पहचान और आइसोलेशन जरूरी है। उन्होंने कहा कि मरीज के संपर्क में आए इन लोगों को 7 दिनों तक क्वारंटीन रहना चाहिए, ताकि उनकी वजह से उनके परिवार या अन्य लोगों में संक्रमण नहीं हो, इसके बाद अपना टेस्ट कराना चाहिए।

’14 दिन तक क्वारंटीन जरूरी’डॉक्टर पॉल ने कहा कि कोरोना जांच रिपोर्ट अगर पॉजिटिव है तो फिर उसके अनुसार मैनजेंट होगा, निगेटिव आया तो अपने पहले की तरह रूटीन जिंदगी जी सकते हैं। अगर वो जांच नहीं कराना चाहते हैं तो 14 दिन तक क्वारंटीन में रहें। इस दौरान उन्होंने यह भी संकेत दिए कि आने वाले दिनों में क्वारंटीन नहीं होने वालों के साथ भी सख्ती की जा सकती है।

भारत में अभी कोविड के 5 वैक्सीन के ट्रायल
डॉक्टर पॉल ने कहा कि कोविड वैक्सीन को लेकर पीएम मोदी की अध्यक्षता में शुक्रवार को बैठक हुई है। विस्तार से सभी पहलुओं पर बात हुई है। पीएम की तरफ से कुछ गाइडलाइन भी मिले हैं, जिस पर काम शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि भारत में अभी कोविड के 5 वैक्सीन के ट्रायल चल रहे हैं, जिसमें सीरम इंस्टीट्यूट का ट्रायल अपने अंतिम स्टेज पर है। कुछ दिनों में उसका रिजल्ट आएगा। इसी प्रकार आईसीएमआर और भारत बायोटेक का भी वैक्सीन अपने तीसरे स्टेज में पहुंच चुका है।

अगले साल की पहली तिमाही तक वैक्सीन उपलब्ध
डॉक्टर पॉल ने कहा कि बाकी दुनिया में 2 वैक्सीन फाइजर और मॉडर्ना की है। हम उनके भी संपर्क में है। लेकिन एक बात अभी तक साफ है कि किसी भी वैक्सीन को लाइसेंस नहीं मिला है। बावजूद पॉल ने कहा कि पूरी उम्मीद है कि अगले साल के पहले तिमाही तक वैक्सीन उपलब्ध हो जाएगा।