UP का ‘शैतान’ जूनियर इंजीनियर अरेस्ट, 50 बच्चों से गंदा काम, पॉर्न साइट को बेचा

0
4

नई दिल्ली
उत्तर प्रदेश के सिंचाई विभाग में कार्यरत एक जूनियर इंजिनियर ( Latest News) को सीबीआई ने गिरफ्तार किया है। इस बात की अधिकारियों ने मंगलवार को जानकारी दी। अफसरों ने बताया कि कथित तौर पर यह जेई बच्चों का 10 वर्षों से कर रहा था। यही नहीं, आरोपी इस घिनौने कृत्य के वीडियो बनाता। फिर वह इन तस्वीरों और वीडियोज को दुनिया में चल रही पॉर्न साइट्स (Uttar Pradesh Crime News) को बेच देता था।

अधिकारियों का कहना है कि इस घिनौने कृत्य के आरोपी ने लगभग 50 बच्चों को अपना शिकार बनाया। इन बच्चों की उम्र 5 से 16 साल की थी। पीड़ित बच्चे बांदा, चित्रकूट और हमीरपुर के रहने वाले थे। इस कृत्य को अंजाम देने वाले आरोपी को बांदा से गिरफ्तार किया गया था और इसे जल्द ही कोर्ट में पेश किया जा सकता है। वहीं, आरोपी जूनियर इंजिनियर को अनैतिक गतिविधियों में लिप्त होने की वजह से तत्काल प्रभाव से सेवा से निलंबित भी कर दिया गया है।

ऐसे हुआ मामले का भंडाफोड़
ऑनलाइन बाल यौन उत्पीड़न के मामलों को देख रही नवगठित सीबीआई की विशेष इकाई ने इंटरनेट पर बाल अश्लील सामग्री डालने में लिप्त लोगों पर नजर रखना शुरू किया था और कुछ दिन तक आरोपी पर नजर रखने के बाद उसकी कथित गतिविधियों का भंडाफोड़ कर दिया। सीबीआई की ‘ऑनलाइन बाल यौन शोषण और उत्पीड़न रोकथाम/अन्वेषण’ (ओसीएसएई) की विशेष इकाई ने एक अभियान में चित्रकूट निवासी कनिष्ठ अभियंता को बांदा से गिरफ्तार किया।

तलाशी के दौरान यह मिला
सीबीआई को तलाशी अभियान के दौरान आठ मोबाइल फोन, आठ लाख रुपये नकद, सेक्स टॉयज, लैपटॉप के साथ-साथ कई अन्य डिजिटल सबूत ( बड़ी संख्या में बच्चों का यौन उत्पीड़न करने वाली सामग्री) भी मिले हैं।

आरोपी ने बताया…
सीबीआई के अधिकारियों की ओर से यह भी बताया गया कि आरोपी जूनियर इंजिनियर 10 वर्षों से यह ‘काला साम्राज्य’ चला रहा था। वह मुख्यरूप से बच्चों के यौन उत्पीड़न से संबंधित सामग्री पूरी दुनिया में संचालित पॉर्न साइट्स को उपलब्ध कराता था। पूछताछ में आरोपी ने यह भी बताया है कि वह इन घिनौने कृत्यों को छिपाने के लिए पीड़ित बच्चों को पैसा, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण समेत कई अन्य चीजें भी देता था।