आदित्य ठाकरे को ‘बेबी पेंगुइन’ कहने का आरोप, समीत ठक्कर को आखिरकार मिली बेल

0
24

मुंबई
महाराष्ट्र के सीएम और उनके बेटे आदित्य ठाकरे के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के आरोपी को अदालत ने जमानत दे दी है। समीत ठक्कर को अदालत ने 25 हजार रुपये के मुचलके पर रिहा करने का आदेश दिया है। पूर्व में 4 नवंबर को समीत को न्यायिक हिरासत में भेजा गया था। समीत को अदालत में पेश करने के सरकार के तरीके पर बीजेपी समेत तमाम दलों ने सवाल उठाए थे।

ठक्कर को नागपुर अदालत से जमानत मिलने के बाद मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार किया था। इसके बाद उन्हें स्थानीय अदालत में पेश किया गया जहां से उन्हें मामले की आगे की जांच के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। ट्विटर पर ठक्कर के 59,000 फॉलोअर हैं और कई सरकारी अधिकारी भी सोशल मीडिया पर उन्हें फॉलो करते हैं। नागपुर पुलिस ने ट्विटर पर उनकी टिप्पणियों को लेकर उन्हें 24 अक्टूबर को गिरफ्तार किया था।

बीजेपी युवा मोर्चा के कई कार्यकर्ताओं पर हुआ था केस
इन टिप्पणियों में आदित्य ठाकरे के खिलाफ ‘बेबी पेंगुइन’ टिप्पणी भी शामिल थी। नागपुर पुलिस ने ठक्कर की गिरफ्तारी का विरोध करने वाले भारतीय जनता युवा मोर्चा के कुछ कार्यकर्ताओं के खिलाफ मामला दर्ज किया था। इन कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन करते समय ऐसे कपड़े पहन रखे थे जिनपर ‘पेंगुइन’ की तस्वीर थी।

पुलिस ने कहा था- बीजेपी के सदस्य हैं ठक्कर
जिन प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है, उनमें शिवानी दानी वाखरे भी शामिल हैं जिनके ट्विटर एकाउंट पर लिखा है कि वह बीजेपी युवा मोर्चा की महासचिव हैं। ठक्कर की गिरफ्तारी के समय पुलिस ने उन्हें बीजेपी का पदाधिकारी बताया था। हालांकि, बीजेपी ने इस बात से इनकार किया है कि ठक्कर उसके पदाधिकारी या उसकी आईटी सेल के सदस्य हैं।