मुसलमान किसी के गुलाम नहीं, ओवैसी का कांग्रेस और आरजेडी पर बड़ा हमला

0
23

नई दिल्ली
बिहार विधानसभा चुनाव परिणाम ( Bihar Chunav Result 2020) में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले AIMIM के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ( ) ने अपनी जीत का श्रेय बिहार की जनता को देते हुए कांग्रेस और आरेजडी पर जमकर हमला बोला। ओवैसी ने कहा कि मुसलमान वोटर किसी के गुलाम नहीं हैं। बीजेपी का बी टीम बताए जाने पर ओवैसी ने पलटवार करते हुए कहा कि आरोप लगाने वाले फ्रस्ट्रेट हैं। उन्होंने कहा कि अगर आरजेडी कांग्रेस को 70 सीटें नहीं देती तो उसका ये हाल नहीं होता। बता दें कि AIMIM ने राज्य में 20 सीटों पर चुनाव लड़ा था और उसे 5 पर जीत हासिल हुई थी।

आरजेडी ने हमें नहीं दी तवज्जो
एक निजी चैनल से बातचीत में ओवैसी ने कहा कि बिहार चुनाव से 7-8 महीने पहले हमने आरजेडी के दो बड़े नेताओं से दिल्ली में बताचीत की थी। उन्होंने कहा, ‘मैंने कहा था कि हम गठबंधन के लिए तैयार हैं। हमने कोशिश तो की लेकिन यह नहीं हो पाया तो मैं क्या करूं?’ आज वोटर किसी का गुलाम नहीं है।

कांग्रेस को 70 सीट देना बड़ी भूल
ओवैसी ने कहा कि कांग्रेस को राज्य में 70 सीटें देना एक बड़ी भूल थी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस केवल 19 सीटों पर चुनाव जीत पाई। आप एक ऐसी पार्टी को इतनी सीटें दे देते हैं जिसका स्ट्राइक रेट इतना खराब हो और आप हमारे साथ गठबंधन से परहेज करते हो।

मुसलमान किसी के गुलाम नहीं
ओवैसी ने आरजेडी और कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि मुसलमान किसी के गुलाम नहीं हैं। उन्होंने कहा, ‘आज का वोटर किसी का गुलाम नहीं है। अगर कोई ऐसा सोचता है तो ये वोटरों की बेइज्जती होगी। जो पार्टी ये सोचती है कि वोटर हमारा गुलाम है और हम जो चाहेंगे वैसा ही होगा तो वो दिन चले गए। आपको काम करना होगा, उनका दिल जीतना होगा।’

मुझे बीजेपी की ए टीम कहिए
बीजेपी की बी टीम के आरोप पर ओवैसी ने कहा, ‘मुझे इसपर आपत्ति है। मुझे आप बीजेपी की ए टीम बना दीजिए। आप जितना हमपर आरोप लगाएंगे, हमारा हौसला उतना बढ़ेगा। लोग अब मान रहे हैं कि आरोप लगाने वाले बीजेपी को हरा नहीं सकते हैं और ओवैसी ही बीजेपी को हरा पाएगा। ये बात दीवार पर लिख दी गई है। इल्जाम लगाने वाले फ्रस्ट्रेट हो गए हैं।’

अगर सही करते तो ये हाल न होता
ओवैसी ने कहा कि अगर महागठबंधन सही तरीके से चलती तो उनका ये हाल नहीं होता। उन्होंने कहा, ‘हम राज्य में 20 सीटों पर चुनाव लड़े। हमें 5 पर जीत मिली, एनडीए को 6 पर और महागठबंधन को 9 सीटों पर जीत मिली। अगर वे सही से चुनाव लड़ते तो उन्हें 5 सीट की जरूरत ही नहीं होती।’