अर्णब गोस्‍वामी को फिलहाल बेल नहीं, हाईकोर्ट बोला- निचली अदालत के दरवाजे खुले

0
10

मुंबई
आत्महत्या के लिए उकसाने के मामले में रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ जेल में बंद हैं। ने शनिवार को उन्हें त्वरित राहत देने के बजाए अंतरिम जमानत याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है। दोनों पक्षों को सुनने के बाद जस्टिस एसएस शिंदे और एमएस कार्णिक की खंडपीठ ने कहा कि बिना कोई तारीख दिए वे जल्द से जल्द आदेश पारित करेंगे।

कोर्ट ने कहा, ‘हम जल्द से जल्द आदेश देंगे। हालांकि, मामले की स्थिति को देखते हुए आरोपियों को सत्र न्यायालय से रेगुलर बेल (नियमित जमानत) की गुहार लगाने से नहीं रोका गया है।’

पढ़ें:

आवास से किया गया था अरेस्ट
गोस्वामी को 53 वर्षीय इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक को कथित तौर पर खुदकुशी के लिए उकसाने के मामले में बुधवार को उनके लोअर परेल स्थित आवास से सुबह के समय गिरफ्तार किया गया था।

मांगी थी
14 दिनों की हिरासत
इससे पहले मैजिस्ट्रेट ने बुधवार देर रात आदेश जारी करते हुए तीनों को पुलिस हिरासत में भेजने से इनकार कर दिया और उन्हें 18 नवंबर तक की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। अलीबाग पुलिस ने गोस्वामी से पूछताछ के लिए 14 दिन की हिरासत की मांग की थी।