फर्जी TRP केस के हवाला से जुड़े तार, एक और आरोपी ने अप्रूवर बनने की अर्जी दी

0
16

मुंबई
फर्जी TRP केस में अब हवाला लिंक का खुलासा हुआ है। इस बात की जानकारी खुद क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट (CIU) की जांच टीम ने सोमवार को किला कोर्ट में मेट्रोपोलिटन मैजिस्ट्रेट को दी। इस केस में अब तक 11 लोग गिरफ्तार हुए हैं। उन्हीं में से दो आरोपियों अभिषेक कोलवणे और आशीष चौधरी को सोमवार को मैजिस्ट्रेट के सामने पेश किया गया था।

सुनवाई के दौरान जांच अधिकारी ने मैजिस्ट्रेट को बताया कि अभिषेक कोलवणे को न्यूज नेशन, WOW म्यूजिक चैनल और रिपब्लिक भारत की TRP बढ़ाने के लिए रकम मिली थी। जांच में यह बात सामने आई कि इसमें से कुछ रकम उसे हवाला के जरिए मिली थी। CIU ने इसी हवाला लिंक की जांच के लिए अभिषेक कोलवणे की नई रिमांड मांगी। मैजिस्ट्रेट ने अभिषेक को पांच नवंबर तक CIU कस्टडी में भेज दिया।

एक और आरोपी ने दी अप्रूवर बनने की अर्जी
CIU ने सोमवार को मैजिस्ट्रेट को एक और महत्चपूर्ण जानकारी दी। जांच अधिकारी ने कोर्ट को बताया कि इस केस में गिरफ्तार 11 वें आरोपी आशीष चौधरी के ठाणे स्थित ऑफिस से पुलिस के दो पंचों और खुद आशीष के सामने दो लाख रुपये बरामद किए गए। आशीष को पिछले सप्ताह गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में उसने बताया कि यह दो लाख रुपये कैश में अभिषेक कोलवणे उसके ऑफिस में रिपब्लिक की टीआरपी बढ़ाने के लिए लाया था और उसके ऑफिस में रख दिए थे। आशीष केबल के बिजनेस से जुड़ा है। CIU ने मैजिस्ट्रेट को बताया कि आशीष चौधरी जांच में सहयोग कर रहा है और उसने अप्रूवर बनने की अर्जी दी है। आशीष चौधरी के वकील राहुल आरोटे ने भी एनबीटी से इस बात की पुष्टि की है कि आशीष ने CIU को इस संबंध में अप्लीकेशन दी है।

उमेश मिश्रा बन चुका है अप्रूवर
फर्जी TRP केस में आशीष चौधरी दूसरा आरोपी है, जो अप्रूवर बन रहा है। इससे पहले उमेश मिश्रा नामक आरोपी अप्रूवर बना है। अप्रूवर बनने का मतलब है कि आरोपियों को पुलिस और कोर्ट से क्षमादान मिल जाएगा। पर इसका दूसरा मतलब है बाकी आरोपियों की मुसीबतें बढ़ जाएगी। CIU को 4 नवंबर को इस केस की स्टेटस रिपोर्ट बॉम्बे हाईकोर्ट को सौंपना है।