लखनऊ और मेंगलुरु एयरपोर्ट अडाणी के हाथ में, राहुल का मोदी पर तंज- विकास हो रहा, पर..

0
54

नई दिल्ली
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर मोदी सरकार पर सिर्फ पूंजीपियों का विकास करने का आरोप लगाया है। कुछ एयरपोर्टों को अडानी ग्रुप (Adani Group) को सौंपे जाने का हवाला देते हुए उन्होंने ट्वीट किया कि सिर्फ कुछ पूंजीपति ‘मित्रों’ का विकास हो रहा है। उन्होंने लखनऊ एयरपोर्ट का संचालन अडानी ग्रुप (Adani group takes over Lucknow airports) को मिलने से जुड़े एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के ट्वीट और मेंगलुरु एयरपोर्ट को अडानी ग्रुप को दिए जाने से जुड़ी एक खबर के स्क्रीनशॉट को शेयर किया है।

राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘विकास तो हो रहा है, लेकिन सिर्फ कुछ पूंजीपति ‘मित्रों’ का।’ दरअसल, एयरपोर्ट्स के निजीकरण () के खिलाफ कई सोशल मीडिया यूजर्स आवाज उठा रहे हैं। ट्विटर पर #Stop_Privatization यानी निजीकरण रोको ट्रेंड कर रहा है।

सोमवार से अडाणी ग्रुप का हो गया लखनऊ एयरपोर्ट
दरअसल, अडाणी ग्रुप लखनऊ के चौधरी चरण सिंह इंटरनैशनल एयरपोर्ट का संचालन 2 नवंबर से अगले 50 सालों के लिए करेगा। इसके लिए केंद्र सरकार और अडाणी ग्रुप में करार हुआ था। लखनऊ एयरपोर्ट पर सोमवार से बदलाव भी दिखने लगे। एयरपोर्ट पर लगे बोर्ड पर अडाणी एयरपोर्ट्स लिखा जा चुका है।

मेंगलुरु एयरपोर्ट का पहले ही टेकओवर कर चुका है अडाणी ग्रुप
राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में लखनऊ एयरपोर्ट का संचालन अडाणी ग्रुप के हाथ में जाने से जुड़े ट्वीट का ही स्क्रीनशॉट शेयर नहीं किया है। साथ में उन्होंने मेंगलुरु एयरपोर्ट के भी अडाणी ग्रुप को सौंपे जाने से जुड़ी एक खबर का स्क्रीनशॉट शेयर किया। दरअसल, लखनऊ के चौधरी चरण सिंह इंटरनैशनल एयरपोर्ट की तरह ही मेंगलुरु एयरपोर्ट का भी अडाणी ग्रुप ने टेकओवर किया है। 31 अक्टूबर से ही मेंगलुरु एयरपोर्ट का संचालन अडाणी ग्रुप ने अपने हाथ में ले लिया है। इसके अलावा अहमदाबाद एयरपोर्ट का भी अडाणी ग्रुप ने टेकओवर किया है और उसका संचालन 11 नवंबर से ग्रुप के हाथ में आ जाएगा। इसके लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने अडाणी ग्रुप की तीन कंपनियों के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं।

देश के कुल 6 एयरपोर्ट्स को अडाणी ग्रुप ने किया टेकओवर
दरअसल, मोदी सरकार ने फरवरी 2019 में 6 हवाई अड्डों का निजीकरण किया था। इनमें लखनऊ, अहमदाबाद, जयपुर, मेंगलुरू, तिरुवनंतपुरम और गुवाहाटी शामिल थे। कंप्टीटिव बिडिंग प्रोसेस में अडाणी एंटरप्राइजेज ने इन सभी का अधिकार जीता था। केंद्र सरकार और अडाणी ग्रुप के बीच हुए एमओयू करार में सेवा क्षेत्र के प्रावधानों का जिक्र किया गया है। इसमें कस्टम्स, एमिग्रेशन, स्वास्थ्य, एमईटी और सिक्योरिटी का जिम्मा एयरपोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया के पास होगा।