जाकिर नाइक ने फ्रांस के राष्ट्रपति पर उगला जहर, बोला – दर्दनाक सजा मिलेगी

0
48

नई दिल्ली
एक तरफ फ्रांस आतंकी हमलों के निशाने पर है, दूसरी तरफ तमाम मुस्लिम देशों में उसके खिलाफ विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। इसकी वजह इस्लाम को लेकर फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों की टिप्पणी है। उसके बाद से ही उनके खिलाफ निजी हमले हो रहे हैं। सोशल मीडिया पर फ्रांसीसी सामानों के बहिष्कार की अपीलें की जा रही हैं। इस बीच विवादित इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक ने एक बार फिर जहर उगला है। भगोड़े नाइक ने फेसबुक पोस्ट में लिखा है, ‘…लेकिन जो भी अल्लाह के दूत को गाली देगा उसे दर्दनाक सजा मिलेगी।’

एक और फेसबुक पोस्ट में उसने कुरान की आयत का हवाला देते हुए लिखा है, ‘वास्तव में जो अल्लाह और उनके दूत को गाली देते हैं, उन्हें अल्लाह ने इस दुनिया में और उसके बाद के लिए शाप दिया है और उनके लिए अपमानजनक सजा तैयार कर रखा है।’

फेसबुक से हटे नाइक के पोस्ट
हालांकि, जाकिर नाइक के ये पोस्ट अब फेसबुक पर मौजूद नहीं है। अभी यह स्पष्ट नहीं है कि खुद नाइक ने इन्हें हटाया है या फेसबुक ने भड़काऊ संदेश की वजह से पोस्ट हटाए हैं।

जाकिर नाइक पर अपने भड़काऊ तकरीरों के जरिए आतंकवादियों को प्रेरित करने के आरोप भी लग चुके हैं। जुलाई 2016 में बांग्लादेश की राजधानी ढाके में हुए आतंकी हमले के हमलावरों ने कबूल किया था कि वे जाकिर नाइक के उपदेशों को सुनकर आतंक की राह पर चले। ढाका हमले में एक भारतीय युवती समेत 29 लोगों की मौत हुई थी। नाइक अभी मलेशिया में है जहां के पूर्व राष्ट्रपति महातिर मोहम्मद ने भी फ्रांस को लेकर ट्विटर पर कई जहरीले ट्वीट किए हैं।

दरअसल, फ्रांस में मोहम्मद साहब पर बने कार्टून को क्लासरूम में दिखाने को लेकर एक टीचर की गला रेतकर हत्या के बाद राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने इसे इस्लामी आतंकवाद कहा था। इतना ही नहीं, उन्होंने चर्चित पत्रिका शार्ली एब्दो में छपे मोहम्मद साहब के विवादित कार्टूनों का भी समर्थन किया। उसके बाद से ही तमाम मुस्लिम देश मैक्रों पर भड़के हुए हैं और उन पर आपत्तिजनक निजी हमले भी तेज हुए हैं। इतना ही नहीं, टीचर की हत्या के बाद गुरुवार को फ्रांस के नीस शहर में एक चर्च में आतंकी हमला हुआ। एक महिला की गला रेतकर हत्या कर दी गई और 2 अन्य को भी चाकू से गोदकर मार डाला गया।