बिहार की धरती से मोदी का विरोधियों को संदेश- न 370 वापस होगा, न कृषि कानून

0
71

भागलपुर,गया,सासाराम
बिहार की धरती से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने विरोधियों को एक कड़ा संदेश दिया। पीएम मोदी ने साफ कहा कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 (Artical 370) की वापसी नहीं होगी। पीएम नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने कहा कि अनुच्छेद- 370 समाप्त करने और कृषि संबंधी तीन कानूनों के फैसलों पर देश पीछे नहीं हटेगा। पीएम मोदी ने ये दोनों बयान बिहार की चुनावी रैली में दिए। इधर अनुच्छेद 370 का मुद्दा उछलने के बाद जम्मू- कश्मीर की पूर्व सीएम महबूबा (Mehbooba Mufti) मुफ्ती ने पीएम मोदी पर निशाना साधा है। महबूबा ने कहा कि नरेंद्र मोदी के पास बताने के लिए कुछ नहीं है। ऐसे में वह 370 के मुद्दे पर राजनीति कर रहे हैं। असल में इस सरकार ने राष्ट्र का कोई भी विषय ठीक से नहीं सुलझाया है।

बिहार में अपनी पहली चुनावी रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अनुच्छेद 370 और कृषि संबंधी तीन नए कानूनों पर कांग्रेस सहित विपक्ष के रुख की कड़ी आलोचना की। पीएम ने कहा कि कहा कि देश अपने फैसलों से पीछे नहीं हटेगा। मोदी ने आरोप लगाया कि विरोधी दल जब किसानों के लिए कुछ कर नहीं पाए तो अब किसानों से लगातार झूठ बोलने में जुट गए हैं और आज कल ये लोग न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को लेकर अफवाहें फैला रहे हैं। जबकि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) सरकार ने ही एमएसपी बढ़ाने की कार्रवाई की है।

मोदी ने पूछा- जब इनकी सरकार थी तब MSP पर फैसला क्यों नहीं लिया?भागलपुर में पीएम मोदी ने कहा कि ये एनडीए की ही सरकार है, जिसने किसानों को लागत का डेढ़ गुना एमएसपी देने की सिफारिश लागू की थी। ये एनडीए की ही सरकार है, जिसने सरकारी खरीद केंद्र बनाने और सरकारी खरीद, दोनों पर बहुत ज़ोर दिया है। विरोधियों पर हमला बोलते हुए पीएम ने कहा कि इनके पास आज तक इसका जवाब नहीं है कि जब इनकी सरकार थी तब MSP पर फैसला क्यों नहीं लिया? क्यों इन लोगों के समय में किसानों से इतना कम अनाज खरीदा जाता था? क्यों इन लोगों ने किसानों की, बिहार के किसानों की परवाह नहीं की।

‘राष्ट्रहित में कोई भी, कुछ भी फैसला ले, ये लोग विरोध में हैं’
पीएम ने कहा कि NDA के विरोध में आज जो लोग खड़े हैं, वो देशहित के हर फैसले का विरोध कर रहे हैं। जम्मू कश्मीर से धारा-370 हटाने का फैसला हो, ये लोग विरोध में हैं। तीन तलाक के विरुद्ध कानून बनाकर मुस्लिम महिलाओं को नए अधिकार देना हो, ये लोग विरोध में हैं। भारत की जांबाज सेना आतंकियों पर कोई कार्रवाई करे, सदहद पर तिरंगे की शान बढ़ाए, ये लोग विरोध में हैं। सुप्रीम कोर्ट अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने को कहे, ये लोग विरोध में हैं। राष्ट्रहित में कोई भी, कुछ भी फैसला ले, ये लोग विरोध में हैं।

‘आज भी बिहार की अनेक समस्याओं की जड़ में 90 के दशक की अव्यवस्था’इससे पहले गया में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि 90 के दशक में बिहार के लोगों का अहित किया गया, बिहार को अराजकता और अव्यवस्था के किस दलदल में धकेल दिया ये आप में से अधिकांश ने अनुभव किया है। आज भी बिहार की अनेक समस्याओं की जड़ में 90 के दशक की अव्यवस्था और कुशासन है। ये वो दौर था जब लोग कोई गाड़ी नहीं खरीदते थे, ताकि एक राजनीतिक पार्टी के कार्यकर्ताओं को उनकी कमाई का पता न चल जाए। ये वो दौर था जब एक शहर से दूसरे शहर में जाते वक्त ये पक्का नहीं रहता था कि उसी शहर पहुंचेंगे या बीच में किडनैप हो जाएंगे।

‘आज के बिहार में लालटेन की जरूरत खत्म हो गई है’पीएम मोदी ने कहा कि ये वो दौर था जब बिजली संपन्न परिवारों के घर में होती थी, गरीब का घर दीए और ढिबरी के भरोसे रहता था। आज के बिहार में लालटेन की जरूरत खत्म हो गई है। आज बिहार के हर गरीब के घर में बिजली का कनेक्शन है, उजाला है। आज बिहार के इंजीनियरिंग कॉलेज, मेडिकल कॉलेज, IIT, IIM जैसे संस्थान खोले जा रहे हैं। यहां बोधगया में भी तो IIM खुला है जिस पर सैकड़ों करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं। वरना बिहार ने वो समय भी देखा है, जब यहां के बच्चे छोटे-छोटे स्कूलों के लिए तरस जाते थे। एनडीए का संकल्प है बिहार को सशक्त और आत्मनिर्भर बनाना।

सासाराम की रैली में पीएम मोदी ने विपक्ष पर जमकर साधा निशानाइससे पहले सासाराम में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि बिहार के विकास की हर योजना को अटकाने और लटकाने वाले ये लोग हैं जिन्होंने अपने 15 साल के शासन में लगातार बिहार को लूटा। आपने बहुत विश्वास के साथ सत्ता सौंपी थी लेकिन इन्होंने सत्ता को अपनी तिजोरी भरने का माध्यम बना लिया। इन लोगों को आपकी जरूरतों से कभी सरोकार नहीं रहा। इनका ध्यान रहा है अपने स्वार्थों पर, अपनी तिजौरी पर। यही कारण है कि भोजपुर सहित पूरे बिहार में लंबे समय तक बिजली, सड़क, पानी जैसी मूल सुविधाओं का विकास नहीं हो पाया।

‘बिहार को अभी भी विकास के सफर में मीलों आगे जाना है’प्रधानमंत्री ने कहा कि जब बिहार के लोगों ने इन्हें सत्ता से बेदखल कर दिया, नीतीश कुमार को मौका दिया तो ये बौखला गए। इसके बाद दस साल तक इन लोगों ने यूपीए की सरकार में रहते हुए बिहार पर, बिहार के लोगों पर अपना गुस्सा निकाला। आज NDA के सभी दल मिलकर आत्मनिर्भर, आत्मविश्वासी बिहार के निर्माण में जुटे हैं। बिहार को अभी भी विकास के सफर में मीलों आगे जाना है। नई बुलंदी की तरफ उड़ान भरनी है।