यूं तबाह हो रहा माफिया मुख्तार अंसारी का गैंग, आगे ये ऐक्शन

0
12

गाजीपुर/मऊ
मुख्तार अंसारी गैंग, अपराध की दुनिया का यह नाम पुलिस क्राइम फाइल में IS-191 ने नाम से जाना जाता है। इसी शुक्रवार को के करीबी मोहम्मद आजम सिद्दीकी के परिजनों के साथ ही उनके कुल 7 असलहों के लाइसेंस को निरस्त किया गया था। वहीं, रविवार को पुलिस ने बताया कि आजम के परिजन के कुल 10 और शस्त्रों के लाइसेंस रद्द कर दिए गए हैं। सूत्रों की मानें तो अंसारियों के गजल होटल पर भी बड़ा ऐक्शन लिया जा सकता है।

पिछले एक महीने से पर ऐक्शन का सिलसिला तेज हो गया है। गिरोह की अवैध संपत्तियों को एक के बाद एक सील किया जा रहा है। मऊ में उसके उसके एक गुर्गे की प्रॉपर्टी सीज की गई है। आजम कादरी का परिवार मूल रूप से बिजनस में सक्रिय रहा है। वहीं सूत्रों के मुताबिक, कुछ खास लोगों के कहने पर लोकसभा चुनाव में आजम ने कुछ चुनावी सभाओं की फंडिंग के साथ ही अंसारियों के हक में अल्पसंख्यक वोटों की लॉबिंग की थी। आजम पर कार्रवाई करते हुए इनके परिवार के अबतक कुल 17 शस्त्रों के लाइसेंस को रद्द किया जा चुका है। वहीं मऊ जिले में पुलिस ने सरायलखंसी के परंदहा गांव में राजेश सिंह की 60 लाख से ज्यादा कीमत की प्रॉपर्टी को सील कर दिया है।

पढ़ें:

राजेश सिंह उर्फ राजन मुख्तार अंसारी के साथ मुन्ना सिंह हत्याकांड का सहअभियुक्त है। प्रशासन ने मुनादी कराकर परंदहा ब्लॉक के मिल रोड और राजेश की प्रॉपर्टी को सील कर लिया है। गाजीपुर के महुआबाग की प्राइम लोकेशन पर मौजूद अंसारियों के मालिकाना हक वाले ‘गजल’ होटल के निर्माण में जमीन खरीद और बिक्री के मामले में शनिवार को एसडीएम गाजीपुर ने सुनवाई पूरी कर ली है। अभी चार दिन पहले ही राजस्व विभाग की टीम ने भूमि की पैमाइश कर रिपोर्ट बनाई थी। 19 सितंबर को जिला प्रशासन ने इस मामले में मऊ विधायक मुख्तार की पत्नी और दोनों बेटों सहित 12 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया था।

27 अगस्त को एक ट्वीट में सीएम योगी आदित्यनाथ ने माफिया तत्वों के खिलाफ बेहद सख्त ऐक्शन का ऐलान किया था। ट्वीट में कहा गया, ‘मुख्तार अंसारी जैसा माफिया हो या कोई भी अन्य अपराधी, सरकार जीरो टॉलरेंस के साथ इनके कुकृत्यों पर पूर्णविराम लगाने को प्रतिबद्ध है। जनभावनाओं के अनुरूप कार्रवाई जारी रहेगी। माफिया मुख्तार अंसारी के काले-साम्राज्य के अंत का समय आ गया है। गिरोह के 97 साथी पुलिस की हिरासत में हैं। कार्रवाई आगे भी जारी रहेगी।’

लखनऊ के डालीबाग इलाके में बने मुख्तार अंसारी के अवैध कब्जे को भी प्रशासन ने जमींदोज कर दिया था। एलडीए, प्रशासन और पुलिस टीम ने डालीबाग कॉलोनी में मुख्तार अंसारी के अवैध कब्जे वाली दो इमारतों को ध्वस्त किया था। ये इमारतें उसके बेटों के नाम दर्ज हैं। एलडीए ने 11 अगस्त को इमारत ढहाने का आदेश दिया था।